Urine infection के कारण, लक्षण और यूटीआई का घरेलू उपचार

कैसे करें यूरिन इंफेक्शन का घरेलू इलाज (Urine infection treatment in hindi)

मूत्र मार्ग संक्रमण (Urine infection) मूत्राशय की नली में इंफेक्शन या सूजन को कहा जाता है। गर्मियों का मौसम शुरू होते ही यूरिन इन्फेक्शन (uti in hindi) की आशंका बढ़ जाती है। इस लेख में जानेंगे यूरिन इंफेक्शन क्या है (What is Urine infection) यूटीआई के लक्षण, कारण तथा मूत्र मार्ग संक्रमण का घरेलू उपचार और पेशाब में संक्रमण से बचने के लिए कौन-कौन सी सावधानियां रखना जरूरी है जानते हैं यूटीआई क्या है जानिए इसके लक्षण, कारण और घरेलू उपचार Home remedies for urine infection in hindi

एक अनुमान के मुताबिक भारत में हर वर्ष अप्रैल से जुलाई माह के बीच मूत्र संक्रमण (Urine infection) यानी यूरिनरी ट्रैक्ट इनफेक्शन के मामले सबसे अधिक होते हैं। क्योंकि इस समय के दौरान मौसम मैं गर्मी और उमस भरी होती है जो सूक्ष्मजीवों के पनपने के लिए अनुकूल मौसम होता है। यह संक्रमण बैक्टीरिया, वायरस या फंगस के कारण भी हो सकता है।

मूत्र मार्ग संक्रमण (Urine infection) के ज्यादातर मामले ई-कोलाई बैक्टीरिया के संक्रमण के कारण होते हैं। यब समस्या पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में अधिक देखने को मिलती है। 70% महिलाओं को जीवन में एक बार यूटीआई इंफेक्शन जरूर होता है। इसमें से अधिकतर मामले 40 वर्ष से कम की महिलाओं में ही होते हैं।

यूरिन इंफेक्शन (यूटीआई) के लक्षण (Urine infection symptoms in hindi)

मूत्र इंफेक्शन या Urine infection के वैसे तो बहुत से लक्षण होते हैं लेकिन कुछ मुख्य है जैसे

  • यूरिन त्याग करते समय जलन होना
  • थोड़ी-थोड़ी मात्रा में लेकिन बार-बार यूरिन पास करना
  • यूरिन में तेज बदबू आना
  • पेल्विक क्षेत्र में दर्द होना
  • पेट के निचले हिस्से में दर्द होना
  • यूरिन क्लोउडी बादल के रंग का होना
  • हल्का बुखार व यूरिन लीक होना

ूत्र मार्ग में संक्रमण के कारण (Causes for urine infection in hindi)

पेशाब में संक्रमण की समस्या के अनेक कारण होते हैं जैसे

  • ज्यादा समय तक यूरिन को रोके रखने के कारण
  • पथरी यानी किडनी स्टोन की समस्या से यूरिन के रुकने के कारण
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता के कमजोर होने के कारण
  • साफ सफाई का विशेष ध्यान न रखने के कारण
  • असुरक्षित या अनुचित यौन संबंध बनाने के कारण
  • महिलाओं में गर्भनिरोधक दवाओं का अधिक उपयोग करने के कारण
  • डायबिटीज (शुगर) की बीमारी के कारण
  • अधिक दवाओं व नशीले पदार्थों के सेवन के कारण भी यूरिन इंफेक्शन हो सकता है।

यूरिन इंफेक्शन टेस्ट (Urine infection test name)

डॉक्टर्स द्वारा मूत्र मार्ग में संक्रमण का पता लगाने के लिए मूत्र परीक्षण करवाया जाता है जिसे यूरिन कल्चर टेस्ट (Urine culture test) के नाम से जाना जाता है। यह एक लैब टेस्ट होता है जो यूरिन में बैक्टीरिया या संक्रमण और यीस्ट का पता करने के लिए किया जाता है। इस टेस्ट से बच्चों, वयस्कों व महिलाओं में मूत्र संक्रमण (urine infection) या यूटीआई का पता चल सकता है।

ूरिन इंफेक्शन का घरेलू उपचार क्या है (Home remedies for urine infection in hindi)

मूत्र संक्रमण में नारियल पानी का सेवन

नारियल के पानी का नियमित सेवन करने या सुबह खाली पेट कच्चा नारियल खाने से यूरिन इन्फेक्शन की समस्या में राहत मिलती है। साथ नारियल पानी पीने से मूत्र त्याग के समय होने वाली जलन की समस्या से भी छुटकारा मिलने के साथ साथ पेट मे ठंडक भी पहुंचाता है। नारियल का पानी पांचन शक्ति को बढ़ाने में भी फायदेमंद होता है।

यूरिन इन्फेक्शन में सेब का सिरका का सेवन

मूत्र मार्ग में संक्रमण की समस्या से छुटकारा पाने के लिए 2 से 3 चम्मच सेब का सिरका पानी में मिलाकर उसमें एक चम्मच शहद मिलाकर नियमित पीने से धीरे धीरे यूरिन इन्फेक्शन, संक्रमण के बैक्टीरिया पेशाब के साथ मूत्र मार्ग से बाहर निकलने लगते हैं और पेशाब में संक्रमण की समस्या से छुटकारा मिलने लगता है।

यह भी पढ़ें – Apple cider vinegar क्या है और इसके फायदे और उपयोग 

यूरिन इन्फेक्शन में अनानास का सेवन

अनानास के पके हुए फल या इसके जूस का नियमित सेवन करने से पेशाब में संक्रमण रोग के बैक्टीरिया को खत्म करने में मदद मिलती है। अनानास का किसी भी रूप में कुछ दिन सेवन करने से यूरिन इंफेक्शन की समस्या से छुटकारा मिलता है। अनानास का सेवन करने से पेट के समस्त रोगों से छुटकारा मिलने के साथ साथ कब्ज से भी छुटकारा मिलता है।

मूत्र संक्रमण में दही या छाछ का सेवन

पेशाब में जलन व इन्फेक्शन की समस्या से राहत पाने के लिए छाछ या दही का नियमित सेवन फायदेमंद होता है। यह बॉडी में मौजूद बैक्टीरिया को मूत्र मार्ग से बाहर निकालने में मददगार होते है। इसके लिए नियमित दही या छाछ में भुना हुआ जीरा व इलायची पाउडर डालकर सेवन करना फायदेमंद होता है।

यूरिन इन्फेक्शन में आंवला का सेवन

मूत्र इंफेक्शन की समस्या से राहत पाने के लिए आंवला जूस एक कारगर औषधि होता है। क्योंकि इसकी तासीर ठंडी होती है। इसलिए 50 से 70 ml आंवले का ताजा जूस में 25 से 30 ml शहद मिलाकर दिन में तीन बार नियमित सेवन करने से यूरिन त्याग के समय होने वाली जलन से छुटकारा मिलने के साथ साथ पेशाब भी खुलकर आता है और यूरिन इंफेक्शन से छुटकारा मिलता है।

Amla के बारे में अधिक जानने के लिए आंवला के फायदे और सेवन कैसे करें पढ़ सकते हैं।

यूटीआई से बचने के घरेलू उपाय (Precaution for urine infection in hindi)

मूत्र मार्ग संक्रमण (Urine infection) की समस्या से राहत पाने के लिए खानपान में बदलाव करने के साथ साथ इस समस्या से बचने के लिए कुछ घरेलू उपाय व दिनचर्या में बदलाव किया जाना भी जरूरी होता है जैसे

  • अंतर्वस्त्र हमेशा सूती कपड़े के ही पहनने चाहिए।
  • तरल पदार्थों का अधिक से अधिक मात्रा में सेवन करना चाहिए।
  • खट्टे फलों का नियमित सेवन करें या इन फलों का जूस पीने से भी यूरिन इन्फेक्शन में फायदा होता है। क्योंकि इन फलों में मौजूद साईट्रिक एसिड बैक्टीरिया को खत्म करने में सहायक होते हैं।
  • यूरिन को कभी भी अधिक समय तक रोक के नहीं रखना चाहिए।
  • नहाने के बाद शरीर को अच्छी तरह से सूती कपड़े से पौंछ कर ही कपड़े पहनने चाहिए।
  • साफ सफाई का अधिक ध्यान रखना चाहिए जिससे यह संक्रमण (Urine infection) अधिक न हो।
  • एंटी ऑक्सीडेंट युक्त खाद्य पदार्थों का अधिक मात्रा में सेवन करना चाहिए जैसे संतरा, दही, डार्क चॉकलेट, टमाटर, करोंदे, योगर्ट, ग्रीन टी, ब्रोकली, पालक, गन्ने का जूस आदि को अपने नियमित आहार में शामिल करने से पेशाब में संक्रमण की समस्या में फायदा होता है।

इसे पढ़े – गन्ने का जूस रोज पीने से होने वाले फायदे जानने के लिए यह पढें

गर्मियों में ही क्यों होता है यूटीआई (Uti problem for summer in hindi)

यूरिन इंफेक्शन मूत्र प्रणाली के किसी भी भाग जैसे मूत्राशय, मूत्रवाहिनी, किडनी, मूत्रमार्ग में हो सकता है। यह संक्रमण यूरिनरी ट्रैक्ट के निचले हिस्से में अधिक होता है। वैसे तो यूटीआई हर मौसम में ही हो जाता है। लेकिन यह गर्मियों के मौसम में अधिक होता है। क्योंकि गर्मियों में पसीना ज्यादा निकलता है जिससे बॉडी में डिहाइड्रेशन की समस्या हो जाती है।

इसके कारण लोग यूरिन कम पास करते हैं। इसके कारण बैक्टीरिया को यूरिन में पनपने का अवसर मिल जाता है और इस के कारण गर्मियों में यूरिन इन्फेक्शन (Uti problem in hindi) अधिक होता है।

िष्कर्ष

इस लेख में हमने जाना Urine infection यानी मूत्र मार्ग संक्रमण क्या है यूरिन इंफेक्शन के लक्षण, कारण और यूरिन इंफेक्शन का घरेलू उपचार (Urine infection treatment in hindi) और यूरिन इंफेक्शन टेस्ट नाम तथा पेशाब में संक्रमण से बचने के लिए कौन-कौन सी सावधानियां रखना आवश्यक है। इस आर्टिकल के बारे में आपके कोई सुझाव या सवाल हो तो आप हमसे पूछ सकते हैं।

यह आर्टिक्ल यूरिन इंफेक्शन का उपचार (Treatment for urine infection in hindi) आपको कैसा लगा कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं तथा पोस्ट को सोशल साइट्स पर शेयर अवश्य करें।

-: लेख को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद :-

इन्हें भी पढ़ें

Share This Product

Leave a Comment