Triphala churna के फायदे, उपयोग नुकसान और त्रिफला का सेवन कैसे करें

त्रिफला चूर्ण के फायदे, उपयोग और नुकसान – Triphala churna ke fayde

आयुर्वेद के अनुसार त्रिफला चूर्ण एक औषधि के रूप में प्रयोग की जाने वाली जड़ी बूटी है जो (Triphala churna) अनेक स्वास्थ्य संबंधी समस्या को दूर करने में गुणकारी है। पेट सम्बंधी तमाम तरह के रोगों व कब्ज से परमानेंट छुटकारा पाने के लिए Triphala churna का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद यानि Triphala benefits होता है त्रिफला चूर्ण का नियमित सेवन करना शरीर को अनेक रोगों से मुक्ति दिलाने में सहायक होता है जानिए त्रिफला के फायदे Triphala churna benefits in hindi

आयुर्वेद चिकित्सा के अनुसार त्रिफला चूर्ण को त्रिदोष नाशक रसायन माना जाता है। Triphala churna विटामिन सी व एंटी ऑक्सीडेंट का एक बहुत अच्छा स्रोत होता है जो  प्रतिरक्षा प्रणाली के निर्माण में काफी सहायक है। सुबह खाली पेट या रात को सोने से पहले त्रिफला चूर्ण का सेवन करना बॉडी को डिटॉक्सिफाई करने के साथ-साथ शरीर की आंतरिक सफाई करने में भी सहायक होता है।

Triphala churna benefits

त्रिफला क्या है – What is triphala churna

यह एक तीन फलों के मिश्रण से तैयार होने वाली आयुर्वेदिक औषधि है Triphala churna के लिए आंवला, हरड़ (हरीतकी) और बहेड़ा के मिश्रण का उपयोग किया जाता है। इसमें प्रयोग होने वाले इन तीन फलों के कारण ही इसको त्रिफला के नाम से जाना जाता है। आयुर्वेद में त्रिफला का काफी महत्व होता है। यह शरीर को हमेशा निरोगी और स्वस्थ बनाए रखने के साथ साथ बीमारियों से भी रक्षा करने में सहायता प्रदान करता है।

Contents

त्रिफला में उपयोग होने वाले तीन फलों का महत्व

इस औषधि त्रिफला का निर्माण करने के लिए जिन तीन आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के मिश्रण का उपयोग किया जाता है वह है हरड़, बहेड़ा और आंवला, जानते हैं इन तीनों औषधियों का क्या महत्व और फायदा होता है।

आंवला

आंवला अनेक औषधीय गुण और खनिजों का भंडार होता है। आंवला में एंटी ऑक्सीडेंट, उच्च मात्रा में खनिज, फाइबर होने के साथ-साथ विटामिन सी का भी आंवला बहुत अच्छा स्रोत होता है। शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने संक्रमण से बचाने पेट के रोग, कब्ज, आंतो को स्वस्थ रखने, त्वचा, बालों व आंखों के स्वास्थ्य को बनाए रखने में बहुत उपयोगी होता है।

Read more – आंवला औषधीय गुणों का खजाना है जानें इसके फायदे

हरड़

हरड़ एंटी ऑक्सीडेंट, एंटी इन्फ्लेमेटरी तथा एंटीएजिंग गुणों से भरपूर होने के कारण स्वास्थ्य के लिए काफी उपयोगी जड़ी बूटी होती है। इसका उपयोग पेट के समस्त रोगों, लिवर, किडनी, ह्रदय से सम्बंधित रोगों से बचने के लिए फायदेमंद होने के साथ-साथ मूत्राशय से संबंधित रोगों से बचाए रखने में भी लाभकारी होता है।

बहेड़ा

यह पूरे भारतवर्ष में पाया जाने वाला एक औषधीय पौधा  होता है। बहेड़ा के फल कई पोषक तत्वों व औषधीय गुणों से भरपूर होते हैं। यह एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होने के साथ साथ ग्लूकोसाइड, गैलिक एसिड, एथिल गैलेट, टैनिन जैसे अनेक जैविक यौगिकों से भी भरपूर होने कारण स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इसका उपयोग यकृत के लिए उपयोगी के अलावा इम्युनिटी मजबूत करने, श्वसन सम्बंधी समस्याओं से छुटकारा पाने, बुखार आदि के इलाज में किया जाता है।

त्रिफला चूर्ण के फायदे और उपयोग / Benefits of triphala churna in hindi

कब्ज का परमानेंट इलाज करने के लिए त्रिफला

लंबे समय तक कब्ज की समस्या रहने के कारण शरीर में विषाक्त पदार्थ जमा होने लगते हैं तथा आंतों में सूजन, पाचन सिस्टम कमजोर होने जैसी समस्याएं पैदा होती है। त्रिफला इन सभी समस्याओं से परमानेंट छुटकारा दिलाने का रामबाण इलाज (Triphala benefits) होता है। नियमित त्रिफला का सेवन करने से पाचन सिस्टम तथा आंतें मजबूत होती है और पेट फूलने, गैस, एसिडिटी, पुरानी से पुरानी कब्ज, पेट दर्द जैसी तमाम तरह की समस्याओं से छुटकारा मिलता है।

वजन घटाने के लिए त्रिफला का सेवन

त्रिफला चूर्ण का नियमित उपयोग करना मोटापा घटाने के लिए फायदेमंद होता है जिन लोगों का वजन औसत से ज्यादा है उन्हें रोजाना त्रिफला का सेवन अवश्य करना चाहिए। क्योंकि त्रिफला चूर्ण वजन घटाने में काफी मददगार होता है। यह शरीर में वसा में कमी करता है तथा शारीरिक ऊर्जा में वृद्धि करता है। त्रिफला चूर्ण बॉडी को फिट और तंदुरुस्त रखने में मददगार होता है।

इम्यून सिस्टम मजबूत करने में त्रिफला

त्रिफला विटामिन सी से भरपूर होने के साथ-साथ एंटीऑक्सीडेंट और पॉलीफेनॉल गुणों से भी भरपूर होता है। इसलिए त्रिफला का नियमित किसी भी रूप में सेवन करने से शरीर को रोगों से लड़ने की शक्ति प्रदान होगी तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता काफी मजबूत होगी। त्रिफला चूर्ण शरीर मे होने वाली सामान्य बीमारियों से लड़ने के प्रति क्षमता विकसित करने में मददगार होता है। 

मधुमेह रोग में त्रिफला के फायदे

शुगर की बीमारी एक ऐसा रोग है जिसको खानपान और उचित प्रबंधन से काफी हद तक नियंत्रित किया जा सकता है। और डायबिटीज के रोगियों के लिए त्रिफला का नियमित इस्तेमाल करना रक्त शर्करा के स्तर को घटाने में फायदेमंद होता है। त्रिफला में एक शक्तिशाली हाइपोग्लाइसेमिक तत्व होने के कारण यह मधुमेह में गुणकारी माना जाता है। यह शरीर में एंटी डायबिटीक गुणों की तरह प्रभावी होता है। इसलिए डायबिटीज रोग से बचाने के लिए त्रिफला चूर्ण काफी लाभदायक होता है।

ह्रदय की मजबूती के लिए त्रिफला

त्रिफला चूर्ण अनेक पोषक तत्व से भरपूर होने के साथ-साथ एंटी एक्सीडेंट गुणों से भरपूर होने के कारण हृदय रोगों के खतरे से बचाने में भी सुरक्षा प्रदान करता है। उच्च रक्तचाप को भी नियंत्रित करने में त्रिफला काफी मददगार होता है। इसका नियमित सेवन करने से दिल मजबूत होता है।

लिवर के लिए त्रिफला के फायदे

त्रिफला चूर्ण का नियमित सेवन लिवर संबंधी समस्याओं से राहत दिला कर लिवर को मजबूती प्रदान करने में मददगार होता है। त्रिफला चूर्ण के इस्तेमाल से वात, पित्त और कफ दोष संतुलित रहते हैं। यह लिवर को साफ रखने के साथ-साथ लिवर संबंधी होने वाली सभी तरह की समस्याओं से बचाता है। इसके लिए आधा-आधा चम्मच त्रिफला चूर्ण को पानी में मिलाकर दिन में दो बार सेवन करने से लाभ मिलता है।

त्वचा के लिए त्रिफला के फायदेTriphala benefits for skin

स्किन सम्बंधी तमाम तरह की समस्या से छुटकारा दिलाने में त्रिफला चूर्ण बेहद कारगर औषधि होता है। त्रिफला का नियमित सेवन करने से दाद, खाज-खुजली, फोड़े-फुंसी, मुहांसे, झुर्रियां जैसी समस्याओं से छुटकारा मिलता है। इसके लिए 10 ग्राम त्रिफला चूर्ण का नियमित गुनगुने पानी के साथ सेवन करना फायदेमंद होता है।

त्रिफला में मौजूद एंटी इन्फ्लेमेटरी और एंटी ऑक्सीडेंट त्वचा की कोशिकाओं की रक्षा करने में मददगार होते हैं। त्वचा संबंधी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए त्रिफला खाने के साथ-साथ इसको स्किन पर लगाया भी जा सकता है इससे स्किन में कोलेजन का निर्माण बढ़ता है तथा त्वचा में नमी बरकरार रहती है।

बालों के लिए त्रिफला चूर्ण के फायदेTriphala benefits for hair

त्रिफला चूर्ण का प्रयोग बालों की जड़ों को मजबूत बनाने और बालों में निखार लाने के लिए किया जा सकता है। त्रिफला विटामिन सी व एन्टी ऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होने के कारण बालों को प्रदूषण व हानिकारक तत्वों से बचाने में मदद करता है। यह समय से पहले होने वाली सफेद बालों की समस्या से भी छुटकारा दिलाता है। त्रिफला में पाया जाने वाला बहेड़ा बालों के लिए बहुत फायदेमंद होता है यह बालों की जड़ों को मजबूत कर के बालों को झड़ने से रोकता है।

आंखों के लिए त्रिफला के फायदे Triphala benefits for eyes

त्रिफला आंखों के लिए बहुत ही गुणकारी होता है इसके प्रयोग से आंखों में होने वाली बीमारियां जैसे मोतियाबिंद ग्लूकोमा के लक्षणों को कम करने में सहायक होता है त्रिफला आंखों की दृष्टि कमजोर होने से बचाने के साथ साथ रोशनी तेज करने में काफी फायदेमंद होता है।

मूत्र मार्ग संक्रमण से छुटकारा पाने में त्रिफलाTriphala benefits for urine infection

त्रिफला चूर्ण जीवाणु रोधी और रोगाणु रोधी क्षमता से भरपूर होता है इसलिए इसका नियमित सेवन करने से यूरिन इन्फेक्शन या मूत्र मार्ग के इंफेक्शन से राहत दिलाने में भी यह काफी मददगार होता है। हमारे शरीर में कुछ ऐसे बैक्टीरिया उत्पन्न हो जाते हैं जो मूत्र मार्ग या यूरिन ब्लैडर में सूजन और इंफेक्शन पैदा करते हैं त्रिफला का नियमित सेवन करने से सभी प्रकार के बैक्टीरिया खत्म हो जाते हैं और मूत्र मार्ग के संक्रमण से छुटकारा मिलता है।

कैंसर रोधी गुणों से भरपूर है त्रिफलाTriphala benefits for cancer

कैंसर एक बहुत ही खतरनाक बीमारी है तथा त्रिफला चूर्ण में अनेक प्रकार के कैंसर के लक्षणों को कम करने के गुण मौजूद होते है। त्रिफला शरीर में कोलन कैंसर की कोशिकाओं के विकास को रोकने में सहायक होता है और कैंसर कोशिकाओं को पनपने से भी रोकता है।

यह शरीर में सामान्य कोशिकाओं को बिना प्रभावित किए केवल  कैंसर कोशिकाओं को ही खत्म करता है। त्रिफला चूर्ण में गैलिक एसिड मौजूद होते हैं ओर गैलिक एसिड कैंसर को पनपने से रोकता है।

triphala churna benefits hindi

त्रिफला का सेवन कैसे करें – Triphala churna uses in hindi

इसका सेवन विभिन्न तरीकों से किया जाता है। ज्यादातर लोगों द्वारा गुनगुने पानी के साथ त्रिफला चूर्ण का उपयोग किया जाता है। कुछ लोग इसका इस्तेमाल दूध, छाछ के साथ भी करते हैं। त्रिफला के चूर्ण को शहद या घी के साथ मिलाकर भी सुबह-शाम सेवन किया जा सकता है। मार्केट में त्रिफला से निर्मित अनेक प्रकार के उत्पाद भी मौजूद है लेकिन त्रिफला का सेवन किसी भी रूप में किया जाना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है।

त्रिफला का सेवन कब और कितनी मात्रा में करना चाहिए – Triphala churna kab aur kaise le

इसका सेवन किसी भी समय किया जा सकता है लेकिन त्रिफला का सेवन खाली पेट करना या भोजन के पश्चात करना लाभकारी होता है। त्रिफला का सेवन करने की मात्रा व्यक्ति के शरीर, उम्र और लिंग के अनुसार भिन्न भिन्न हो सकती है। त्रिफला चूर्ण को आधा चम्मच की मात्रा में दिन में दो बार लिया जा सकता है। त्रिफला चूर्ण के अलावा त्रिफला टेबलेट, कैप्सूल, सिरप, आदि के रूप में इस्तेमाल करने से पहले चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

त्रिफला चूर्ण के नुकसान – Triphala churna side effects in hindi

त्रिफला का सेवन स्वास्थ्य के लिए सुरक्षित माना जाता है इसका सेवन लगातार लंबे समय तक किया जा सकता है लेकिन Triphala churna का सेवन करने के दौरान कुछ लोगों को कुछ सावधानियां बरतने की आवश्यकता जरूर होती है।

  • त्रिफला का सेवन हमेशा सीमित मात्रा में ही करना फायदेमंद होता है अधिक मात्रा में इसका सेवन करने से दस्त या पेचिश जैसी समस्याओं का खतरा बना रहता है।
  • स्तनपान कराने वाली महिलाओं व गर्भवती महिलाओं को त्रिफला का इस्तेमाल करने से पहले चिकित्सक से परामर्श अवश्य करना चाहिए।
  • बच्चों को त्रिफला का सेवन करने से कुछ स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का खतरा रहता है इसलिए बच्चों को इसका सेवन करने से बचना चाहिए।
  • किसी बीमारी या किसी भी प्रकार की दवाओं का इस्तेमाल करने वाले लोगों को Triphala churna का सेवन करने से पहले चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

FAQ

#1 त्रिफला कब नहीं खाना चाहिए?

जिन लोगों को नींद नहीं आती या कम आती है उनको त्रिफला का सेवन करने से बचना चाहिए क्योंकि इसका सेवन करने से अनिद्रा की समस्या बढ़ सकती है। जिनका वजन कम है उनको त्रिफला का सेवन करने से वजन और कम हो सकता है।

#2 पेट के लिए सबसे अच्छा चूर्ण कौन सा है?

त्रिफला चूर्ण पेट के लिए सबसे अच्छा चूर्ण होता है Triphala churna नियमित खाने से पेट में होने वाली समस्याएं जैसे पेट दर्द, गैस, एसिडिटी, बदहजमी, अपच आदि से छुटकारा मिलता है तथा जिन लोगों का पेट बाहर निकला हुआ है उनके लिए त्रिफला का सेवन बहुत फायदेमंद माना जाता है।

निष्कर्ष

इस लेख में हमनें इस प्राचीन जड़ी बूटी त्रिफला के फायदों यानि Triphala benefits, इसका सेवन किन-किन स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से बचने में किया जा सकता है तथा त्रिफला चूर्ण सेहत के लिए कैसे फायदेमंद होता है आदि के बारे में विस्तार से जाना। इस औषधि Triphala churna का उपयोग हर किसी को शरीर को स्वस्थ और निरोगी रखने के लिए अवश्य करना चाहिए।

दोस्तों आशा करते हैं आपको यह लेख Triphala churna ke fayde जरूर पसंद आया होगा इसके बारे में आपने कोई भी सुझाव या सवाल हो तो कॉमेंट बॉक्स में अवश्य लिखना तथा इस आर्टिकल को अपने परिवार के लोगों व दोस्तों के साथ शेयर जरूर करना।

-: इस लेख को अंत तक पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद :-

इन्हें भी पढ़ें –

Share This Product

में श्रवण बिश्नोई Nirogi Health का Founder और एक Professional Blogger हूँ। में आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति पर आधारित स्वास्थ्य से संबधित जानकारियां इस ब्लॉग पर नियमित Publish करता रहता हूँ।

Leave a Comment