Tingling in hands – क्यों होती है हाथों पैरों में झनझनाहट जानें इसका इलाज

हाथ पैर सुन होने का घरेलू इलाज (Tingling in hands and feet in hindi)

हाथों पैरों में झनझनाहट (Tingling in hands and feet) होने का प्रभाव हाथों, पैरों, उंगलियों, तलवे आदि में ज्यादा होता है, हाथ पैर में झनझनाहट (Paresthesia problem) कोई गंभीर समस्या तो नहीं है। परंतु यह आपकी पूरी दिनचर्या प्रभावित होने का कारण बन सकती है। इसलिए हाथों में झनझनाहट Tingling in hands का समय रहते इलाज जरूरी है। इस आर्टिकल में जानेंगे हाथों पैरों में झनझनाहट क्यों होती है, इसके लक्षण और हाथ पैर में झुनझुनी का घरेलू उपचार क्या है। आइए जानते हैं हाथों व पैरों में झनझनाहट का घरेलू  इलाज क्या है Tingling in hands and feet in hindi

हाथों पैरों में झनझनाहट क्या है (What is tingling in hands and feet in hindi)

हाथ और पैरों में होने वाली झनझनाहट सुई चुभने (हाथों में पैरों में कांटे से चुभना) जैसी होती है। इस समस्या में हाथ या पैर का कोई भाग सुन पड़ जाता है। आम भाषा में कहा जाता है कि हाथ या पैर सो गए हैं। डॉक्टर द्वारा इसे पैरेस्थेसिया (paresthesia) कहा जाता है। मुख्यतः एक ही पोजीशन में बैठने से हाथों पैरों में रक्त संचार सही नहीं हो पाता या कोई नस थोड़ी बहुत दब जाती है।

इससे उस स्थान या पैरों में झनझनाहट होने लगती है। जब हम पोजीशन बदलते हैं। या खड़े हो जाते हैं। तो दबाव कम होकर रक्त संचार सुचारू रूप से होने लग जाता है। और झनझनाहट खत्म हो जाती है। अगर कभी कभार यह समस्या होती है तो सामान्य बात है। लेकिन जब ऐसा बार-बार होने लगे तो चिंता का विषय हो जाता है। और इस (Tingling in hands treatment) का इलाज करवाना जरूरी होता है।

हाथों पैरों में झनझनाहट होने के कारण (Reasons for tingling in hands and feet in hindi)

जब हाथों व पैरों की नसें दब जाती है। तो हाथों व पैरों में रक्त का संचार सही तरीके से नहीं हो पाता इसके कारण हाथ और पैर में झनझनाहट होने की समस्या उत्पन्न होती है। इसके कारण हाथ या पैर सुन्न हो जाते है। या करंट सा महसूस होता है। शरीर के किसी भी हिस्से में कभी-कभी झनझनाहट होना सामान्य है। लेकिन बार-बार ऐसा होना किसी बीमारी का संकेत हो सकता है।

Tingling in hands Hatho me kampan ka ilaj

थायराइड के कारण भी झनझनाहट (Tingling in hands and feets) हो सकती है। क्योंकि इसके हार्मोन हमारे शरीर के तापमान से लेकर मेटाबोलिज्म हर चीज को नियंत्रित करता है। इसके अलावा ट्यूमर की समस्या होने पर हाथ और पैरों में झनझनाहट हो सकती है।  इस समस्या के और भी बहुत से कारण होते हैं जैसे

  • शरीर की नसों में रक्त संचार में कोई रूकावट होने के कारण
  • तंत्रिका संबंधी कोई बीमारी होने के कारण
  • लिवर और गुर्दे की समस्या होने के कारण
  • नशीले पदार्थ, जहरीली वस्तु या कोई केमिकल का शरीर में चले जाने के कारण
  • विटामिनस जैसे विटामिन B1, B6, B12, B3 विटामिन E की कमी के कारण
  • गठिया रोग होने के कारण
  • गर्दन या कमर की किसी चोट के कारण
  • ज्यादा लंबे समय तक किसी बीमारी की दवाओं के सेवन के कारण
  • ब्लड प्रेशर का कम या ज्यादा होने के कारण
  • डायबिटीज, ब्लड शुगर ज्यादा होने के कारण भी शरीर में झनझनाहट हो सकती है।

यह भी पढ़ें ~ मधुमेह के लिए आहार चार्ट

हाथों पैरों में झनझनाहट होने के लक्षण (Symptoms of tingling in hands and feet in hindi)

शरीर में इस समस्या (Tingling in hands in hindi) के होने के कारण बहुत से लक्षण दिखाई देते है जैसे

  • शरीर के किसी अंग जैसे हाथ, पैर, उंगलियां आदि सुन्न पड़ना
  • हाथ, पैर व बाजू में चुभन के साथ झनझनाहट होना
  • काम करने के दौरान थकान के साथ शरीर में कंपन होना
  • हाथों व पैरों के तापमान का कम या ज्यादा होना
  • हाथ व पैरों में सुई सी चुभना या सुन्न होना
  • अगर कभी-कभी झनझनाहट हो तो कोई बड़ी समस्या नहीं है। लेकिन नियमित ऐसा हो तो चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए।

हाथों और पैरों की झनझनाहट दूर करने के घरेलू उपाय (How to stop tingling in hands and feet in hindi)

साइप्रस का तेल

इस तेल का प्रयोग सूजन व दर्द की समस्या से छुटकारा पाने के लिए किया जाता है। साइप्रस के तेल की नियमित मालिश करने से नसों में रक्त संचार में सुधार होने के साथ-साथ यह क्षतिग्रस्त नसों को भी ठीक करता है। हाथों व पैरों में झनझनाहट की समस्या (Tingling in hands) से छुटकारा पाने के लिए साइप्रस के तेल में नारियल और जैतून का तेल मिलाकर रात को सोने से पहले इस तेल के मिश्रण से हाथों और पैरों के साथ पूरे शरीर की मसाज करना बहुत लाभदायक होता है।

लैवेंडर का तेल

इस तेल में एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। यह क्षतिग्रस्त नसों की मरम्मत करके दर्द से राहत दिलाने में मददगार होता है। लेवेंडर ऑइल तंत्रिका तंत्र संबंधी समस्याओं से राहत दिलाने में काफी उपयोगी होता है। इसलिए झनझनाहट की समस्या से छुटकारा पाने के लिए इस तेल में नारियल का गर्म तेल मिलाकर इस मिश्रण से हाथों व पैरों की मालिश करना फायदेमंद होता है। और यह तेल पुरुषों के लिए भी लाभकारी होता है इसके बारे में अधिक जानने के लिए पढ़े- यौन दुर्बलता दूर करने के उपाय

बादाम का तेल

इस तेल में एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पाया जाता है। यह रक्त वाहिकाओं की सूजन को कम करता है। बादाम का तेल बहुत से पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इसका इस्तेमाल खाने में करने के साथ शरीर पर लगाने के लिए भी किया जाता है। हाथ पैरों की झनझनाहट को दूर करने के लिए दो चम्मच बादाम का तेल लेकर पूरे शरीर की मालिश करने से काफी आराम मिलता है। इसके अलावा बादाम के तेल को दूध के साथ मिलाकर पीना भी शरीर में बहुत से पोषक तत्वों की पूर्ति करता है।

दालचीनी

दालचीनी में मैग्नीशियम और पोटेशियम जैसे पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। जो हमारे शरीर के रक्त संचार को सुचारू रूप से कार्य करने में मददगार होते हैं। दालचीनी में एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण भी पाया जाता है। जो हाथों और पैरों की झनझनाहट को दूर करने में काफी सहायक होता है। इसलिए झनझनाहट जैसी समस्या से निजात पाने के लिए एक कप पानी में एक चौथाई चम्मच दालचीनी पाउडर मिलाकर इसका सेवन दिन में दो बार करने से ऐसी समस्या में राहत मिलती है।

सेव का सिरका

सेव के सिरके में बहुत से जरूरी पोषक तत्व पाए जाते हैं। यह हमारे शरीर की ऊर्जा में वृद्धि करने के साथ ही यह शरीर की शुद्धि भी करता है। इसके अलावा सेब के सिरके में एसिटिक एसिड भी पाया जाता है। इसलिए हाथ व पैरों की झनझनाहट दूर करने के लिए एक गिलास सादे जल में दो चम्मच सेव का सिरका मिलाकर इसका नियमित सेवन करना लाभदायक होता है।

सेंधा नमक

सेंधा नमक मैग्नीशियम से भरपूर होता है। और मैग्नीशियम शरीर की सूजन और दर्द की समस्या को दूर करने में लाभदायक होता है। और झनझनाहट उत्पन्न करने वाली क्षतिग्रस्त नसों को भी ठीक करके सुचारू रूप से कार्य करने में मददगार होता है। हाथों पैरों की झनझनाहट से राहत पाने के लिए गुनगुने पानी में सेंधा नमक मिलाकर टब में डालकर इस पानी में हाथों व पैरों को 20 से 25 मिनिट डुबोकर रखने से राहत मिलती है।

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में हमने जाना हाथों पैरों में झनझनाहट (Tingling in hands  in hindi) क्या है तथा यह क्यों होती है और हाथों पैरों में झनझनाहट होने के लक्षण कारण तथा घरेलू उपचार (Tingling in hands and feet) क्या है व किन चीजों का सेवन करके इस समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। इस लेख के बारे में आपके कोई भी सुझाव या सवाल हो तो हमें पूछ सकते है।

यह लेख आपको कैसा लगा Comment करके जरूर बताये तथा आर्टिकल को शेयर करना ना भूलें क्योंकि किसी जरूरतमंद तक यह जानकारी पहुंचना आवश्यक है  ताकि इस समस्या से छुटकारा पाने में मदद मिल सके।

इस आर्टिकल हाथों पैरों में झनझनाहट का इलाज (Tingling in hands ) में दी गई तमाम जानकारियों को सूचनात्मक उद्देश्य से लिखा गया है अतः किसी भी सुझाव को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श अवश्य करें।

Thanks…

इन्हें भी पढ़ें-

Leave a Comment