Likoria महिलाओं के लिए क्यों खतरनाक है जानें ल्यूकोरिया का इलाज

लिकोरिया का घरेलू इलाज क्या है (Leucorrhoea Treatment tips in hindi)

ल्यूकोरिया महिलाओ में एक गंभीर बीमारी होती है Likoria को सफेद पानी या कुछ जगह ल्यूकोरिया के नाम से भी जाना जाता है आयुर्वेद में ल्यूकोरिया को श्वेतप्रदर कहा जाता है लिकोरिया रोग का समय पर उपचार न करने पर महिलाओ का स्वास्थ्य कमजोर हो जाता है इस रोग में योनि से सफेद या पीले रंग का गाढ़ा स्राव होता रहता है निरोगी हेल्थ के इस आर्टिकल में जानेगे Likoria यानि ल्यूकोरिया क्या है, लिकोरिया के लक्षण व कारण और ल्यूकोरिया का घरेलू इलाज क्या है आइये जानते है ल्यूकोरिया का आयुर्वेदिक इलाज Likoria ka ilaj in hindi

लिकोरिया (Leucorrhoea) को आम भाषा में श्वेद प्रदर या सफेद पानी कहा जाता है। Likoria में योनि से सफेद रंग का गाढ़ा और दुर्गन्धयुक्त पानी निकलता रहता है। तथा इन्फेक्शन होने पर यह पीले, हल्के निले एवं हल्के लाल रंग का भी होता है। यह चिपचिपा और बदबूदार होता है। अक्सर महिलाओं को योनि से सफेद पानी Vaginal discharge आने की शिकायत रहती है।

इसके कारण कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। Likoria का समय पर उपचार न होने पर महिलाओ को बहुत सी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओ का सामना करना पड़ता है। और थकान रहने लगती है। इन घरेलू नुस्खों से दूर हो सकती है। महिलाओं की सफेद पानी की समस्या।

लिकोरिया के लक्षण (Leucorrhoea Symptoms in hindi)

इस रोग Likoria के बहुत से लक्षण होते है उनमे से कुछ है जैसे

  • कमर व पेंडू में लगातार दर्द बना रहना।
  • कमजोरी महसूस होना और चक्कर आना।
  • थोड़ा सा काम करने पर थकान, चक्कर आना औऱ आँखो के सामने अँधेरा छा जाना।
  • पिंडलियों में खिंचाव व शरीर मे भारीपन रहना।
  • चिड़चिड़ा पन रहना और किसी काम में मन न लगना।
  • जी मिचलाना एवं भूख ना लगना
  • पेट मे भारीपन बना रहना और बार बार पेशाब आना।
  • योनि मार्ग में तीव्र खुजली होना व जलन होना।
  • आँखो के नीचे काले घेरे होना और चेहरा काला पड़ना व मुरझा जाना।

ल्यूकोरिया के घरेलू उपचार (Home Remedies for leucorrhoea in hindi)

likoria ka ilaj in hindi

मेथी दाना

लिकोरिया की समस्या से छुटकारा पाने के लिए तीन चम्मच मेथी दाना को आधा लीटर पानी में उबालें। जब पानी आधा बच जाए तब उसको छान कर ठंडा होने के बाद इसका सेवन करें। इसका सेवन ताजा तैयार करके नियमित करने से सफेद प्रदर (Likoria) से छुटकारा मिलता है। मेथी दाना योनि के माइक्रोफ्लोरा और पीएच के स्तर को संतुलित रखने में मददगार होता है।

धनियां के बीज

धनिया के बीज का सेवन करने से शरीर से विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं। और शरीर स्वस्थ रहता है। लिकोरिया की समस्या में 2 से 3 ग्राम धनिया के बीजों को रात भर एक गिलास पानी में भिगोकर छोड़ दें सुबह खाली पेट इस पानी को छानकर इसका सेवन नियमित 7 दिन तक करने से श्वेत प्रदर की समस्या से राहत मिलती है।

आँवला

रोज सुबह खाली पेट कच्चा आंवला खाना Likoria या श्वेत प्रदर से छुटकारा दिलाने में सहायक होता है। कच्चा ना मिले तो रात को सोते समय एक चम्मच आंवला पाउडर और आधा चम्मच शहद एक गिलास पानी में भिगोकर रख दें। सुबह खाली पेट इसको पीने से भी लिकोरिया की समस्या से राहत मिलती है। स्वाद के लिए इसमें मिश्री भी मिला सकते हैं। यह भी पढ़ें – आंवला के फायदे और इसका सेवन कैसे करें 

केला पका हुआ

श्वेत प्रदर या Likoria की समस्या होने पर पके हुए केले को दही में मिलाकर साथ में थोड़ी सी मिश्री या शक्कर मिलाकर सुबह के समय इसका सेवन करना चाहिए। इसके अलावा पके हुए केले को बीच में से काट कर इसमें लौह भस्म और फिटकरी भस्म इन दोनों को थोड़ी-थोड़ी मात्रा में डालकर दिन में दो बार इसका सेवन करने से सफेद पानी की समस्या से छुटकारा मिलता है। इसका सेवन 7 दिन तक नियमित करने से Likoria में लाभ मिलता है।

गुलाब फूल और पतियाँ

योनि स्राव की समस्या से छुटकारा दिलाने में गुलाब का बहुत महत्व है। ऐसी समस्या होने पर गुलाब के फूलों से बना गुलकंद रात को सोते समय एक चम्मच नियमित लेने से आराम मिलता है। इसके साथ ही गुलाब की पत्तियों को सुखाकर इसका चूर्ण बनाकर आधा चम्मच चूर्ण का सुबह के समय जल के साथ सेवन करना Likoria की समस्या से छुटकारा दिलाता है। यह भी पढ़ें – गुलाब के फायदे, औषधीय गुण और उपयोग 

इसबगोल

इसबगोल Likoria या सफेद पानी की समस्या में कारगर औषधि के रूप में काम करता है। आधा चम्मच इसबगोल को एक गिलास दूध के साथ सुबह के समय नाश्ता आदि करने के बाद सेवन करने से लिकोरिया की समस्या में आराम मिलता है।

सफेद मूसली

श्वेत प्रदर की समस्या में सफेद मूसली का उपयोग करना काफी मददगार होता है। इसके अलावा भी महिला और पुरुषों के गुप्त रोगों में यह काफी कारगर औषधि होती है। सफेद पानी की समस्या में एक चम्मच सफेद मूसली चूर्ण में आधा चम्मच मिश्री या शक्कर मिलाकर दूध के साथ इसका नियमित सेवन करना बहुत लाभदायक होता है। यह पढ़ें ~ यौन कमजोरी दूर करने और यौन शक्ति बढ़ाने के उपाय 

बबूल कीकर

लिकोरिया के इलाज के लिए बबूल की कोमल पत्तियां और फलिया लेकर छाया में सुखा लें। सूखने के बाद इसका बारीक चूर्ण बनाकर रख लें। इस चूर्ण में मिश्री भी मिला सकते हैं। इस चूर्ण को एक चम्मच की मात्रा में नियमित सुबह के समय सेवन करने से सफेद पानी यानि Likoria की समस्या से हमेशा के लिए छुटकारा मिलता है। यह बहुत ही कारगर औसधि है। साथ ही इसके सेवन से शरीर में किसी भी प्रकार के दर्द से भी छुटकारा मिलता है। यह पढ़ें ~ बबूल गोंद खाने के फायदे क्या है

FAQ

Q 1. ल्युकोरिया बीमारी क्या है?

Ans  ल्यूकोरिया को सामान्य भाषा में सफेद प्रदर या सफेद पानी भी कहा जाता है। यह महिलाओं में होने वाली एक आम बीमारी होती है। इस बीमारी में महिलाओं के योनि से सफेद रंग का गाढ़ा और बदबू दार चिपचिपा पानी निकलता रहता है किसी प्रकार का इंफेक्शन होने पर सफेद पीला, हल्के नीले व लाल रंग का और बहुत चिपचिपा और बदबूदार होता रहता है।

Q 2. सफेद पानी आने से क्या नुकसान होता है?

Ans  सफेद पानी आने की समस्या के कारण हाथ पैरों में दर्द, कमर में दर्द, पिंडलियों में खिंचाव व दर्द, चिड़चिड़ापन, व शरीर में भारीपन रहना आदि समस्याएं होती है। इस रोग में स्त्री के योनि मार्ग से सफेद चिपचिपा, गाढ़ा व बदबूदार स्राव होता रहता है इसे वेजाइनल डिसचार्ज भी करते हैं।

Q 3.लिकोरिया कितने प्रकार का होता है?

Ans  ल्यूकोरिया समान्यतः पांच प्रकार का होता है नंबर एक साधारण होता है जो माहवारी के साथ आता है और अपने आप ठीक हो जाता है। दूसरा संसर्ग से पैदा हुए इंफेक्शन के कारण होता है। तीसरा बच्चेदानी के अंदर दाना होने से तथा चौथा बच्चेदानी के कैंसर के कारण होता है।

Q 4. क्या प्रेगनेंसी में वाइट पानी आता है?

Ans  महिलाओं में गर्भावस्था की हर तिमाही में योनि से सफेद पानी आता है। सफेद पानी के जरिए महिलाओं के शरीर से मृत कोशिकाएं बाहर निकल जाती है। गर्भावस्था की तीसरी तिमाही में वेजाइनल डिस्चार्ज बढ़ जाता है सफेद गाढ़ा चिपचिपा और गंध हीन डिस्चार्ज आना नॉर्मल बात होती है।

निष्कर्ष (Conclusion)

इस आर्टिकल में हमने जाना लिकोरिया क्या है (What is Likoria) इसके लक्षण, कारण और लिकोरिया का घरेलु इलाज (Likoria ka ilaj) तथा इससे बचने के लिए क्या खाना फायदेमंद होता है और इस रोग ल्यूकोरिया में क्या सावधानियां रखना जरूरी होता है। इस लेख के बारे में आपके कोई भी सवाल या सुझाव हो तो निचे कमेंट में जरूर लिखें।

इस आर्टिकल में लिखी गई तमाम जानकारियों को सूचनात्मक उद्देश्य से लिखा गया है। अतः किसी भी सुझाव को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श अवश्य कर लेवें।

यह आर्टिकल ल्यूकोरिया का इलाज (Likoria treatment in hindi) आपको कैसा लगा Comment करके जरूर बताएं और पोस्ट को Share भी करें ताकि किसी जरूरत मंद को लाभ पहुंचाने में मदद मिले। leucorrhoea treatment

-: इस लेख को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद :-

इन्हें भी पढ़ें-

Leave a Comment