जामुन के फायदे और नुकसान | Jamun benefits and uses in hindi

Share This Product On

 

क्यों सेहत के लिए लाभकारी है जामुन जानिए Jamun benefits in hindi

गर्मियों के मौसम में आने वाला जामुन का फल यानि Jamun fruit गर्मी व लू से बचाने के साथ-साथ शरीर में ठंडक का भी एहसास दिलाता है। जामुन का पूरा पेड़ ही सेहत के लिए उपयोगी होता है मधुमेह के साथ साथ अनेक रोगों से बचाने में यह फायदेमंद Jamun benefits है। जामुन के फलों के साथ साथ इसकी गुठलियां, पत्तियां, छाल आदि का सेवन अनेक रोगों से बचाने में फायदेमंद होता है। जानते है जामुन के फायदे और नुकसान तथा उपयोग करने के तरीके Jamun benefits in hindi

Jamun ke fayde aur nuksan

आयुर्वेद की दृष्टि से जामुन स्वास्थ्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है विटामिन सी और आयरन से भरपूर जामुन का सेवन करने से ब्लड में हीमोग्लोबिन की वृद्धि होती है। जामुन पेट के रोगों, डायबिटीज, गठिया, आंतों की सूजन, पेचिश, Digestive system यानि पाचन संबंधी समस्याओं आदि रोगों में भी अत्यंत उपयोगी होता है। जामुन में भरपूर मात्रा में आयरन मौजूद होता है तथा यह शरीर के रक्त को शुद्ध भी रखता है।

जामुन के फायदे और उपयोग / Benefits of jamun in hindi

Jamun benefits in hindi

एनीमिया रोग में जामुन के फायदे (Jamun benefits in anemia in hindi)

जामुन में भरपूर मात्रा में आयरन के साथ-साथ कई विटामिन्स, पोटेशियम, कैल्शियम जैसे पोषक तत्व भी मौजूद होते हैं। इसलिए Jamun का नियमित सेवन रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत करता है। जामुन के पके हुए फलों का नियमित सेवन करने से शरीर के ब्लड में हीमोग्लोबिन का स्तर तेजी से बढ़ता है और शरीर में खून की कमी दूर होकर एनीमिया रोग से भी राहत मिलती है।

यह भी पढ़ें – एनीमिया रोग क्या है इसके लक्षण, कारण और घरेलू उपचार 

मधुमेह रोग में जामुन की गुठली के फायदे (Jamun benefits for diabetes in hindi)

डायबिटीज रोग में जामुन का उपयोग बहुत फायदेमंद माना जाता है। यह ब्लड में शर्करा की मात्रा को नियंत्रित करता है। इसलिए शुगर रोग से ग्रसित लोगों के लिए गर्मियों के मौसम में ताजे जामुन का नियमित सेवन करना लाभदायक होता है। इसके अलावा जामुन की गुठली भी ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में एक कारगर औषधि होती है। इसके लिए जामुन की गुठली को छाया में सुखाकर उसका पाउडर बनाकर नियमित सुबह शाम 3 – 3 ग्राम की मात्रा में नियमित सेवन करते रहने से डायबिटीज रोग ठीक हो जाता है।

जामुन की पत्तियों में Anti-diabetic गुण प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। इसलिए जामुन ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में मददगार होता है। इसलिए डायबिटीज के रोगियों को जामुन की पत्तियों की चाय बना कर नियमित सेवन करने से काफी फायदा है।

डायबिटीज से पीड़ित रोगियों को एक गिलास पानी को गर्म करके उसमें जामुन की पत्तियां या जामुन की पत्तियों को छाया में सुखाकर बनाया गया एक चम्मच पाउडर डालकर उसे अच्छे से उबाल लें जब पानी आधा बच जाए तो छानकर उसमें शहद और नींबू के रस की कुछ बूंदे डालकर नियमित रूप से सेवन करना फायदेमंद होता है इससे मधुमेह रोग नियंत्रण में रहता है।

हाई ब्लड प्रेशर में जामुन के फायदे (Jamun benefits in high blood pressure in hindi)

उच्च रक्तचाप की समस्या से राहत पाने के लिए जामुन के फलों का सेवन फायदेमंद होने के साथ-साथ इसकी गुठली का पाउडर बनाकर सेवन करना भी लाभदायक होता है। लेकिन ध्यान रहे इसका सेवन सीमित मात्रा में ही करना चाहिए क्योंकि अधिक मात्रा में सेवन करने से ब्लड प्रेशर लो होने की समस्या होने की संभावना अधिक होती है।

त्वचा रोगों में जामुन के फायदे (Jamun benefits for skin problems in hindi)

स्किन संबंधी समस्याओं से छुटकारा दिलाने में जामुन का पूरा वृक्ष ही फायदेमंद (Jamun benefits) माना जाता है। जामुन के फलों का पेस्ट बनाकर इसे स्किन पर लगाने से त्वचा के दाग, धब्बे, पिंपल्स, मुंहासे, झुर्रियों जैसी समस्याओं से राहत मिलने के साथ साथ त्वचा में निखार आता है व स्किन साफ, मुलायम व चमकदार बनती है। जामुन का पेस्ट सफेद दागों की समस्या से भी छुटकारा दिलाने में उपयोगी होता है।

यह भी पढ़ें – त्वचा के रोग कौन कौन से है और बचने के घरेलू उपाय क्या है

पेट के रोगों में जामुन के फायदे (Jamun benefits for stomach problems in hindi)

जामुन के ताजे फलों का कुछ दिन नियमित सेवन करने से पेट संबंधी रोगों से छुटकारा मिलता है व आंतों की सफाई होती है। गैस, एसिडिटी, बदहजमी, अपच, पेट में मरोड़, एंठन जैसी समस्याओं से राहत पाने के लिए जामुन की छाल का काढ़ा बना कर नियमित्त पीने से फायदा मिलता है। इसको रोजाना पीने से पाचन तंत्र मजबूत होता है और भूख बढ़ती है।

लिवर से संबंधित समस्याओं में जामुन का सेवन (Jamun benefits for liver problems in hindi)

लिवर की सूजन व लिवर से संबंधित समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए जामुन का सेवन करने के साथ-साथ इसकी ताजी पत्तियों का रस निकालकर सुबह खाली पेट कुछ दिन सेवन करने से लिवर स्वस्थ और मजबूत होता है। फैटी लिवर की समस्या से छुटकारा पाने के लिए भी जामुन के फल, पत्तियां तथा छाल का काढ़ा बनाकर पीना फायदेमंद होता है।

मौखिक स्वास्थ्य में जामुन के फायदे (Jamun benefits for oral health in hindi)

जामुन की पत्तियां एंटी बैक्टीरियल गुणों से भरपूर होती है। इसलिए इनका सेवन मौखिक स्वास्थ्य में उपयोगी होता है। इनका नियमित सेवन दांतों और मसूड़ों को मजबूत करने के साथ साथ इनसे निकलने वाले खून को रोकने में भी मददगार होता है। जामुन की पत्तियों का प्रयोग संक्रमण को भी फैलने से रोकता है। जामुन की लकड़ी की दांतुन करने से दांत व मसूड़ो को मजबूती मिलती है और दांतों के दर्द से छुटकारा मिलता है।

जामुन की पत्तियों को सुखा कर इनका सेवन टूथ पाउडर के रूप में भी किया जाता है। जामुन की पत्तियों में एस्ट्रिजेंट गुण भी मौजूद होते हैं। यह मुंह के छालों की समस्या से राहत दिलाने में मददगार है। इसके अलावा जामुन की छाल का काढ़ा बनाकर सेवन करने से मुंह के छालों से छुटकारा मिलता है।

Jamun benefits in hindi

दूषित जल को शुद्ध करने में जामुन की लकड़ी का प्रयोग 

जामुन का वृक्ष के सभी हिस्से या भाग औषधीय गुणों से भरपूर और फायदेमंद (Jamun benefits of health) होते है। आजकल दूषित पानी की समस्या एक बहुत बड़ी समस्या है और इसका समाधान जामुन का वृक्ष कर सकता है। इसलिए पानी शुद्ध करने के लिए जामुन के पेड़ की मोटी लकड़ी को पानी की डिग्गी या टँकी में डालने से पानी शुद्ध तो होगा ही साथ ही हरी काई, शैवाल व पानी मे बदबू जैसी समस्याएं भी नहीं होती है।

जामुन के नुकसान / Side effects of jamun in hindi

जामुन का सेवन करने के फायदों के साथ-साथ इसके कुछ नुकसान भी होते हैं इसलिए इसका सेवन करने से पहले हमें उसके बारे में जानकारी होना जरूरी है ताकि सावधानियां रखी जा सके।

1.   जामुन का सेवन करते वक्त या सेवन करने के तुरंत बाद कभी भी दूध नहीं पीना चाहिए।

2.   अधिक मात्रा में जामुन का सेवन करने से खांसी की समस्या तथा फेफड़ों संबंधित समस्याएं भी होने का खतरा रहता है।

3.  सुबह खाली पेट जामुन का सेवन करने से ही बचना चाहिए इसका सेवन करने से पहले नाश्ता वगैरह अवश्य कर लेना चाहिए।

4.  जो लोग रक्त में थक्के जमने से संबंधित दवाओं का सेवन करते हैं उनको जामुन का सेवन करने से बचना चाहिए।

5.  जिन महिलाओं की हाल ही में डिलीवरी हुई हो या बच्चे को दूध पिलाती हो उनको जामुन का सेवन करने से पहले चिकित्सक से परामर्श अवश्य करना चाहिए।

निष्कर्ष (Conclusion)

आज के इस आर्टिकल में हमने जाना सेहत के लिए क्यों लाभकारी है जामुन का सेवन और  Jamun benefits यानि जामुन खाने के फायदे तथा इसका कौन कौन सा भाग स्वास्थ्य के लिए उपयोगी होता है और जामुन का उपयोग किन रोगो से बचाने में लाभकारी होता है। इस लेख के बारे में आपके कोई भी सवाल या सुझाव हो तो निचे कमेंट बॉक्स में लिख सकते है।

यह लेख जामुन के फायदे और नुकसान (Jamun benefits and side effects in hindi) आपको कैसा लगा कमेंट में अवश्य बताएं तथा लेख को सोशल मिडिया पर अपने दोस्तों व परिवार के लोगों के साथ शेयर करना न भूलें।

-: लेख को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद :-

इन्हे भी पढ़े

Share This Product On

Leave a Comment