सोयाबीन खाने के फायदे और नुकसान | Health benefits of uses soybean in hindi

सोयाबीन के 11 फायदे (Soybean seeds health benefits and side effects in hindi) soyabean ke fayde

सोयाबीन एक दलहनी फसल होती है जिस के बीजों का प्रयोग किया जाता है। सोयाबीन में उच्च मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है। शाकाहारी लोगों के लिए सोयाबीन प्रोटीन का बहुत ही अच्छा स्रोत होता है। सोयाबीन पोषक तत्वों का खजाना है जिसके सेवन से शरीर हष्ट पुष्ट और स्वस्थ रहता है। निरोगी हेल्थ के इस आर्टिकल में जानेगे सोयाबीन के फायदे, सोयाबीन के नुकसान और इसका प्रयोग किन किन रोगो से बचने के लिए किया जा सकता है आइये जानते है सोयाबीन खाने के फायदे और नुकसान (Health benefits of uses soybean in hindi)

Contents

यह (सोयाबीन) मानव शरीर के लिए अत्यंत फायदेमंद होती है। सोयाबीन से विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थ बनाए जाते हैं इसका सेवन मांस या डेयरी प्रोडक्ट के विकल्प के रूप में किया जाता है। सोयाबीन का इस्तेमाल अनेक बीमारियों के इलाज में फायदेमंद है। यह एंटी एजिंग फूड है जिसमें 43% प्रोटीन होता है।

सोयाबीन में अनेक प्रकार के विटामिंस, मिनरल्स और प्रोटीन मौजूद होते हैं इसमें विटामिन बी कॉन्प्लेक्स और विटामिन ए के अलावा अनेक प्रकार के मिनरल्स पाए जाते हैं प्रोटीन के अलावा सोयाबीन में फाइबर, आयरन, मिनरल्स, मैग्नीज, फास्फोरस, कॉपर, पोटेशियम, जिंक और फाइटोएस्ट्रोजन्स जैसे पौषक तत्व प्रचुर मात्रा में पाये जाते है।सोयाबीन का तेल भी निकाला जाता है।

सोयाबीन में पोषक तत्व (Soybean Nutrition value in hindi)

इसमें भरपूर मात्रा में पोषक तत्व पाए जाते हैं इसमें पाए जाने वाले मुख्य पोषक तत्वों के बारे में जानते हैं।

प्रोटीन             —         12.95 ग्राम

कार्बोहाइड्रेट   —          11.5 ग्राम

फाइबर           —          4.2 ग्राम

फैट                 —          6.8  ग्राम

पानी                —          67.5 ग्राम

ऊर्जा               —         147 kgcl

कैल्शियम        —          197 ग्राम

आयरन            —          3.55  mg

मैग्नीशियम       —          65 mg

फास्फोरस       —         194 mg

पोटेशियम        —         620 mg

सोडियम          —        15 mg

जिंक               —         0 .99 mg

सोयाबीन खाने के फायदे (Uses Soybean health benefits in hindi)

इस का सेवन करने के अनेक फायदे (Health benefits of soybean seeds in hindi) होते हैं इनमें से कुछ के बारे में विस्तार से जानते हैं।

सोयाबीन मधुमेह व दिल की बीमारियों में विशेष लाभकारी होती है इनकी रोकथाम में भी मदद करता है इसमें मौजूद अनसैचुरेटेड फैट्स बुरे कोलेस्ट्रोल के स्तर को कम करने में मददगार होता है। यह पढ़ें- हाई कोलेस्ट्रॉल के लक्षण, कारण और उपाय

एनीमिया में सोयाबीन के फायदे

सोयाबीन का सेवन एनीमिया रोग, लाल रक्त कोशिकाओं की कमी और हड्डियों के कमजोरी दूर करने में किया जाता है। सोयाबीन को अनेक तरीकों से प्रयोग किया जा सकता है जैसे सोयाबीन के बीच की सब्जी बनाकर, इसका तेल निकालकर, सोयाबीन की बड़ी बनाकर आदि। इसका प्रयोग शरीर में खून बढ़ाने या लाल रक्त कोशिकाओं को बढ़ाने में किया जाता है इसके लिए यह बहुत ही लाभकारी औषधी मानी जाती है।

मधुमेह में सोयाबीन के फायदे

सोयाबीन में प्रोटीन के अलावा आइसोफ्लावोन नामक एक घटक पाया जाता है। जो मधुमेह और हृदय रोगों के खतरे को कम करने में सहायक होता है। इसका नियमित सेवन करने से कोलेस्ट्रोल और ब्लड शुगर का स्तर नियंत्रित रहता है। मधुमेह के रोगियों को अक्सर गेहूं का प्रयोग न करने की सलाह दी जाती है। इसलिए मधुमेह रोग से पीड़ित व्यक्ति के लिए सोयाबीन के आटे का उपयोग करना लाभदायक माना जाता है। इसके अलावा सोयाबीन का नियमित सेवन करने से डायबिटीज रोग से पीड़ित व्यक्ति की मूत्र संबंधी समस्याओं को दूर करने में भी मदद मिलती है। यह पढ़ें- मधुमेह रोग में आहार चार्ट

हड्डियों की कमजोरी दूर करने में सोयाबीन के फायदे

सोया प्रोटीन और आइसोफ्लेवोन्स से भरपूर डाइट हड्डियों को कमजोर होने के खतरे से बचाता है। महिलाओं में खानपान की कमी के कारण हड्डियों का कमजोर होना एक आम समस्या होती है। तथा बढ़ती उम्र के साथ ही महिलाओं में ओस्टियोपोरोसिस का खतरा भी बढ़ जाता है। सोयाबीन में मौजूद विटामिन, कैल्शियम, मैग्नीशियम और कॉपर जैसे पोषक तत्व हड्डियों को मजबूत करते हैं।

उच्च रक्तचाप में सोयाबीन के फायदे

सोयाबीन में पोटेशियम प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इसलिए उच्च रक्तचाप से पीड़ित व्यक्ति को सोयाबीन का सेवन करने की सलाह दी जाती है। क्योंकि उच्च रक्तचाप के रोगियों को अधिक सोडियम और पोटेशियम का सेवन करना चाहिए। पोटेशियम से भरपूर भोजन शरीर से अतिरिक्त सोडियम को निकालने का काम करता है इसके लिए सोयाबीन को भून कर इसका नियमित सेवन करना हाई बीपी को नियंत्रण करने में मददगार होता है।

ह्रदय के लिए सोयाबीन के फायदे

यह हृदय रोगियों के लिए एक उत्तम आहार माना जाता है क्योंकि सोयाबीन का सेवन करने से दिल के स्वास्थ्य में सुधार होता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं जो हृदय रोग और सूजन को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसका नियमित सेवन करने से शरीर में रक्त संचार को प्रभावित करने वाले कणों को नियंत्रित किया जा सकता है।

वजन बढ़ाने में सोयाबीन के फायदे

शरीर का वजन बढ़ाने के लिए सोयाबीन का उपयोग लाभदायक माना जाता है। अक्सर बॉडी बनाने के लिए जिम में कसरत करने वालों को प्रोटीन खाने की सलाह दी जाती है। उनके लिए सोयाबीन प्रोटीन का उत्तम आहार होता है। इसका नियमित सेवन करने से शरीर का वजन तेजी से बढ़ता है और शरीर मजबूत, बलशाली, ताकतवर और हष्ट पुष्ट बनता है। इसके लिए सोयाबीन को रात भर भिगोकर सुबह चबाकर खाना उपयुक्त माना जाता है। यह पढ़ें- वजन बढ़ाने के लिए डाइट प्लान

कैंसर रोग में सोयाबीन के फायदे

एक अध्ययन में पाया गया है कि सोयाबीन का उपयोग कोलन व कोलोरेक्टल जैसे कैंसर होने के रिस्क को भी कम करता है। क्योंकि सोयाबीन को आइसोफ्लेवोन्स और फाइटोकेमिकल्स के समूह का भी मुख्य स्रोत माना जाता है। इन दोनों तत्वों में एंटी कैंसर के गुण पाए जाते हैं। इसलिए सोयाबीन के नियमित सेवन से स्तन और गर्भाशय से संबंधित कैंसर से बचने में मदद मिलती है।

त्वचा के लिए सोयाबीन के फायदे

सोयाबीन के बीज में एंटी इन्फ्लेमेटरी और कोलेजन के गुण पाए जाते हैं। इसलिए यह त्वचा में निखार लाने और त्वचा रोगों से बचाने में मददगार होता है। सोयाबीन में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट त्वचा को अल्ट्रावायलेट किरणों से भी सुरक्षा पहुंचाने का काम करता है। इसलिए त्वचा में होने वाली किसी भी प्रकार की समस्याओं से बचने के लिए सोयाबीन का नियमित सेवन करना लाभकारी माना जाता है। इसके अलावा सोयाबीन से बनी क्रीम का नियमित प्रयोग भी त्वचा के लिए लाभकारी माना जाता है।

बालों के लिए सोयाबीन के फायदे

सोयाबीन में फाइबर, विटामिन बी, विटामिन सी और अन्य पोषक तत्व व मिनरल के साथ-साथ इसमें प्रचुर मात्रा में आयरन पाया जाता है जो कि बालों की मजबूती और विकास के लिए सहायक होता है। और बालों को झड़ने से रोकने में भी यह बहुत ही कारगर उपाय होता है।

गर्भावस्था में सोयाबीन के फायदे

सोयाबीन में पाया जाने वाला बी कॉम्पलेक्स और फोलिक एसिड गर्भवती महिलाओं के लिए अत्यंत आवश्यक होता है। तथा यह भ्रूण के मानसिक विकास में भी मददगार होता है। सोयाबीन में प्लांट एस्ट्रोजन जैसे यौगिक पाये जाते हैं जो शरीर मे एस्ट्रोजन हार्मोन के निर्माण में मददगार होता है। इसलिए कहा जाता है कि गर्भवती महिलाओं को सोयाबीन का नियमित सेवन करना जच्चा और बच्चा दोनों के लिए लाभदायक होता है।

लिवर के लिए सोयाबीन के फायदे

सोयाबीन को रात भर पानी में भिगोकर सुबह नियमित सेवन करने से पाचन तंत्र और लिवर के लिए उपयोगी माना जाता है। क्योंकि सोयाबीन में लेसीथिन पाया जाता है जो लिवर के लिए बहुत फायदेमंद होता है। यह लिवर की सूजन या फैटी लिवर की समस्या से राहत दिलाने में मददगार होता है। इसके नियमित सेवन से लिवर की कार्य क्षमता बढ़ने के साथ साथ पाचन क्रिया मजबूत होती है और शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में भी मदद मिलती है और शरीर स्वस्थ व निरोगी रहता है। यह पढ़ें- फैटी लिवर का रामबाण इलाज

सोयाबीन के नुकसान (Soybean side effects in hindi)

इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व और सोयाबीन के स्वास्थ्य लाभ और फायदे (Health benefits of uses soybean in hindi) जानने के बाद इससे होने वाले नुकसान के बारे में जानते है इसका सीमित मात्रा में सेवन करने के कोई नुकसान नहीं है। लेकिन सोयाबीन का अधिक मात्रा में सेवन करना नुकसानदायक हो सकता है। क्योंकि इसे खाने से सबसे ज्यादा एलर्जी की समस्या होती है। इसके अलावा इसका सेवन करने के लिए कुछ सावधानियां है जैसे

  • इसका अत्यधिक मात्रा में सेवन करने से कोलेस्ट्रोल का स्तर बढ़ सकता है जो हृदय के लिए नुकसानदायक होता है।
  • जिन लोगों को माइग्रेन की समस्या हो या बॉडी फूलने वाला थायराइड हो तो सोयाबीन का सेवन करने से बचना चाहिए।
  • सोयाबीन के सेवन से एलर्जी की समस्या हो सकती है।
  • इसमें फाइटोएस्ट्रोजन गुण पाए जाते हैं इसलिए इसका अधिक मात्रा में सेवन करने से पुरुषों के स्पर्म की गुणवत्ता में कमी आ सकती है।
  • इसका सेवन करने से महिलाओं को हार्मोन संबंधी कई समस्याएं हो सकती है क्योंकि इसमें मौजूद कंपाउंड फीमेल हार्मोन एस्ट्रोजन की कॉपी करता है।

FAQ

Q 1. सोयाबीन को भिगो कर खाने से क्या फायदा है?

Ans  इसमें प्रचुर मात्रा में पाया जाने वाला आयरन खून की कमी को दूर करने के साथ-साथ रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी वृद्धि करने में मददगार होता है। यह टाइप टू डायबिटीज को नियंत्रण करने के साथ रक्तचाप को भी नियंत्रित रखने में सहायक होता है। इसमें पाए जाने वाले प्रोटीन और कैल्शियम से मांसपेशियां व हड्डियां मजबूत होती है।

Q 2. सोयाबीन को कैसे खाना चाहिए?

Ans  सोयाबीन को भिगोकर भी खाया जाता है। इसकी सब्जी या इसके आटे की रोटी बनाकर भी सेवन सेवन किया जाना लाभदायक होता है। इसके अलावा सोयाबीन स्नैक्स भी हेल्थी आहार होता है। सोयाबीन की बड़ी और इसके तेल का भी प्रयोग किया जाता है।

Q 3. सोयाबीन कितना खाना चाहिए?

Ans सोयाबीन का सेवन सीमित मात्रा में करना  लाभदायक माना जाता है। क्योंकि अधिक मात्रा में सेवन करने से यह टेस्टोस्टेरोन के स्तर को प्रभावित कर सकता है। इसलिए सोयाबीन या इससे बने उत्पादों को सीमित मात्रा में ही प्रयोग करना चाहिए अगर भिगोकर सोयाबीन का सेवन किया जाए एक मुट्ठी से ज्यादा रोजाना नहीं करना चाहिए।

इस आर्टिकल सोयाबीन के फायदे (Health benefits of uses soybean in hindi) के बारे में आपके कोई भी सुझाव या सवाल हो तो Comment बॉक्स में लिखें और पोस्ट को अपने दोस्तों और परिवार के साथ Share अवश्य करें ताकि किसी जरूरतमंद को लाभ मिल सके।

इन्हें भी पढें-

Leave a Comment

होठों को स्वस्थ रखने के उपाय हृदय रोग से बचने के घरेलु उपाय Heart Disease Treatment in hindi हींग खाने के फायदे Hing Benefits हाई ब्लड प्रेशर से राहत पाने के घरेलू उपाय | High blood pressure ka ilaj सीने में दर्द का घरेलू इलाज Chest pain treatment