स्वस्थ रहने की अच्छी आदतें | Best Good health tips in hindi

शरीर को स्वस्थ कैसे रखें (Good health tips in hindi) स्वस्थ कैसे रहें

आज के समय हर इंसान स्वस्थ व निरोगी जीवन जीना चाहता है। Good health और निरोगी जीवन जीने के लिए पौष्टिक आहार व जीवनशैली की कुछ आदतों में बदलाव किया जाना आवश्यक होता है। इस आर्टिकल में जानेंगे स्वस्थ रहने के लिए अच्छी आदतें कोनसी है तथा हमें स्वस्थ व Good health और निरोगी जीवन जीने के लिए अपनी खाने पीने की आदतों और जीवनशैली में कौनसे बदलाव करने चाहिए, स्वस्थ रहने के उपाय (Good health tips), स्वस्थ रहने के लिए क्या खाएं आइए जानते हैं शरीर को स्वस्थ कैसे रखें Best Good health tips in hindi

शरीर के लिए आवश्यक पोषक तत्वों की पूर्ति करने में हमारे खानपान और जीवनशैली का बहुत बड़ा योगदान होता है। Good health स्वस्थ निरोगी व लम्बा जीवन जीने के लिए और शरीर को बीमारियों से बचाये रखने के लिए हमारी खाने पीने की आदतें और दिनचर्या का सही होना बहुत आवश्यक होता है।

हर इंसान Good health और निरोगी रहना चाहता है क्योंकि कोरोना महामारी ने लोगों को सेहत के प्रति जागरूक करने का काम किया है।

कोरोना के बाद लोगों ने अपनी सेहत के बारे में सोचना और सजग रहना शुरू कर दिया है। इसलिए जानतें हैं की स्वस्थ रहने के लिए क्या खाएं (Good health diet) और नियमित दिनचर्या में कोन कोन से बदलाव जरूरी होते हैं। विस्तार से जानने के लिए अंत तक अवश्य पढ़ें-

निरोग व स्वस्थ रहने के उपाय (Best guide for good health in hindi)

पानी का सेवन

शरीर को स्वस्थ (Good health) रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी का सेवन अवश्य करना चाहिए। पानी का सेवन मस्तिष्क की कार्य क्षमता में सुधार करता है तथा कब्ज से भी बचाता है। पर्याप्त मात्रा में पानी के सेवन से शरीर को सुचारू रूप से कार्य करने में मदद मिलती है। यह शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में भी मददगार होता है।

रात को सोने से एक घंटा पहले तक किसी भी समय पानी पिया जा सकता है। पानी में नींबू डालकर पिएं या खीरा, अदरक डालकर भी पानी को फ्लेवर में बना सकते हैं।

किडनी के मरीज के लिए नियमित 2 लीटर पानी प्रयुक्त होता है। मधुमेह, किडनी या पाचन तंत्र से संबंधित किसी बीमारी से ग्रस्त मरीज को चिकित्सक से परामर्श के बाद ही पानी की मात्रा में परिवर्तन करना चाहिए।

सलाद का सेवन

दिन के भोजन के साथ सलाद का सेवन अवश्य करना चाहिए तथा शाम या रात के भोजन में सलाद का सेवन नहीं करना चाहिए। सलाद का सेवन करने से पर्याप्त मात्रा में विटामिंस, मिनरल्स व फाइबर की प्राप्ति होती है जो पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करने में मददगार होते है। सलाद में खीरा, लेट्यूस, गाजर, चुकंदर, अंकुरित दालें, ककड़ी, मक्का आदि को शामिल करें। यह पढें- चुकंदर के फायदे और नुकसान क्या है

जिन लोगों को सूजन (ब्लोटिंग) रहती है वह सलाद में गोभी, चना, राजमा आदि का प्रयोग ना करें। इसके बजाय चुकंदर, टमाटर, उबले हुए मूंग, गाजर आदि का सेवन करें। मधुमेह के मरीजों को क्रीम व मेंयोनीज मिला सलाद नहीं खाना चाहिए। मक्का, पास्ता मिला सलाद, छोंक लगा सलाद व शहद मिले हुए सलाद का सेवन भी शुगर में नहीं करना चाहिए।

फलों का सेवन

स्वस्थ रहने के लिए (Good health tips) दिन में कम से कम 2 बार फलों का सेवन करना चाहिए। फलों के सेवन से हीट स्ट्रोक, उच्च रक्तचाप और हृदय रोगों से लड़ने की ताकत मिलती है। इसके साथ ही खनिज और विटामिंस की भी शरीर में पूर्ति होती है। एक सामान्य व्यक्ति को दिन में 200 से 250 ग्राम मौसमी फलों का सेवन करना चाहिए फल किसी भी समय खा सकते हैं लेकिन संतरा अनार आदि ठंडे फलों का सेवन दिन में ही करें।

डायबिटीज के मरीज को केला, सीताफल, चीकू और पके हुए आम का परहेज करना चाहिए। इसके अलावा किसी बीमारी से ग्रस्त रोगी को फलों का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लेनी चाहिए।

साबुत अनाज का सेवन

एक स्वस्थ और सामान्य व्यक्ति साबुत अनाज का सेवन दिन में दो बार कर सकता है। क्योंकि इनमे प्रोटीन और फाइबर होता है प्रोटीन से मांसपेशियां और ऊतकों की मरम्मत होती है तथा फाइबर से पाचन तंत्र मजबूत व वजन नियंत्रण रखने में मदद मिलती है। साबुत अनाज को नाश्ते या दिन के भोजन में शामिल करें रात में सोने से 2 से 3 घंटे पहले तक खा सकते हैं।

साबुत अनाज को सलाद के साथ या सब्जी के रूप में सेवन किया जा सकता है। साबुत अनाज पकाने से पहले भिगोने की प्रक्रिया अपनाएं जैसे छोले, चने, लोबिया आदि। यह पढें- मिलेट खाने के फायदे

अंकुरित अनाज का सेवन

व्यस्को को हर दिन नियमित लगभग 30 से 40 ग्राम अंकुरित अनाज का सेवन करना चाहिए। यह कोलेस्ट्रोल को कम करते हैं तथा हृदय रोग से बचाते हैं व कब्ज से राहत दिलाने में भी यह उपयोगी  होते है। अंकुरित अनाज जटिल कार्बोहाइड्रेट्, विटामिन बी और खनिज का अच्छा स्रोत होते हैं।

सुबह के समय अंकुरित अनाज का सेवन करना फायदेमंद माना जाता है। इनको खाने के लिए इनमें प्याज काट कर नींबू का रस डालकर भी खाया जा सकता है या स्प्राउट्स उपमा, स्प्राउट्स पोहा, स्प्राउटेड सलाद, स्प्राउट्स इडली आदि बनाकर भी सेवन कर सकते हैं।

इनको अंकुरित होने के बाद 2 दिनों के भीतर ही सेवन कर लेना चाहिए उसके बाद इनका सेवन करने से बचना चाहिए।

दाल का सेवन

एक सामान्य व्यस्क व्यक्ति को दिन में 25 से 30 ग्राम ( कच्ची दाल का माप) दाल का सेवन अवश्य करना चाहिए। क्योंकि दालों में प्रोटीन भरपूर मात्रा में होता है जो हमारी मांसपेशियों और टिश्यू की मरम्मत के लिए आवश्यक होता है। इसलिए एक कटोरी दाल को दोपहर के भोजन में अवश्य ही खाना चाहिए।

दालों को उबालकर या अंकुरित करके भी खाया जा सकता है। बहुत अधिक मसाले के साथ या ज्यादा तेल में तलकर खाने से परहेज करना चाहिए। किडनी संबंधित रोग या यूरिक एसिड की समस्या वाले मरीजों को दाल का सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए।

सूखे मेवों का सेवन

अच्छे स्वास्थ्य की टिप्स (Good health tips) अपनाने के लिए सूखे मेवों का नियमित सेवन करना शरीर के लिए फायदेमंद होता है क्योंकि इनमें डाइटरी फाइबर, आयरन, विटामिन ए, विटामिन ई, आवश्यक फैटी एसिड, खनिज, प्रोटीन, एंटीऑक्सीडेंट्स आदि प्रचुर मात्रा में होते हैं।

इसके लिए 5-7 पीस बादाम, 2 पीस अखरोट, 5-7 किशमिश, 4 खजूर, 2 अंजीर, 4-5 पीस काजू 4-5 पिस्ता, एक खूबानी को पानी या दूध में भिगोकर सुबह से दोपहर बाद तक कभी भी खाया जा सकता है। खजूर और अंजीर आयरन के बहुत अच्छे स्रोत होते हैं साथ ही अखरोट में ओमेगा 3 प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। यह पढें- ड्राईफ्रूट्स के फायदे

मधुमेह से पीड़ित रोगी तथा रक्त चाप वाले रोगी को डॉक्टर की सलाह पर ही सूखे मेवों की मात्रा निर्धारित करनी चाहिए।

दूध का सेवन

एक स्वस्थ और व्यस्क व्यक्ति को दिन में 400 मिलीलीटर दूध अवश्य पीना चाहिए लेकिन जिनको पाचन संबंधी समस्याएं हैं वह इसकी मात्रा कम रखें। दूध का सेवन शरीर में कैल्शियम की पूर्ति करने में, ऊर्जा बढ़ाने में, कब्ज की समस्या दूर करने में तथा थकावट दूर दूर करने में मददगार होता है।

दूध का सेवन करने के लिए सुबह और रात को सोने से आधा घंटा पहले तक का समय उपयुक्त माना जाता है। इस समय मे कभी भी इसका सेवन कर सकते हैं। दूध गर्म या गुनगुना पी सकते हैं तथा गर्मियों के मौसम में ठंडा दूध भी पिया जा सकता है। यह पढें- कैल्शियम की कमी दूर करने के उपाय

जिनको पाचन संबंधी या पेट संबंधी समस्याएं हैं वह सामान्य तापमान पर इसका सेवन कर सकते हैं। डायबिटीज और किडनी के रोगी को डॉक्टर की सलाह पर ही दूध का सेवन करना चाहिए।

शारीरिक एक्टिविटी करना

शरीर की बीमारियों से रक्षा करने में शारीरिक एक्टिविटी, योग व व्यायाम का बहुत बड़ा योगदान होता है। क्योंकि इनसे हमारे शरीर में रक्त का संचार सुचारू रहता है तथा मांसपेशियों का विकास और  मजबूत बनाने में भी एक्सरसाइज करने से लाभ मिलता है तथा इन एक्टिविटीज को नियमित करने से हमारी इंद्रियां भी शक्तिशाली हो जाती है।

इसके अलावा ऐसी एक्टिविटी रेगुलर करने से पाचन तंत्र मजबूत होने के साथ शरीर का वजन भी नियंत्रित रहता है।

पर्याप्त नींद लेना

नींद का हमारे शरीर को स्वस्थ और निरोगी रखने (Good health) में बहुत बड़ा योगदान होता है क्योंकि गहरी और शांत नींद से शरीर की थकावट दूर होती है तथा मस्तिष्क की कार्य क्षमता भी बढ़ती है। अगर हम पर्याप्त नींद नही लेते हैं तो इससे शरीर के मेटाबॉलिज्म, याददाश्त, स्ट्रेस हार्मोन, इम्युन सिस्टम और ह्रदय पर विपरीत प्रभाव पड़ता है।

गहरी नींद से हमारे शरीर में ब्लड का स्वरूप सर्कुलेशन भी सुचारू होता है। इसलिए सोने से पहले हल्के व सॉफ्ट कपड़े पहनने चाहिए तथा चिंता और तनाव मुक्त होकर सोना चाहिए। जिससे गहरी और पर्याप्त नींद आती है और सुबह शरीर तरोताजा और स्वस्थ महसूस करता है।

कार्बोहाइड्रेट युक्त आहार का सेवन

शरीर को स्वस्थ रखने और ऊर्जावान बनाने के लिए कार्बोहाइड्रेट युक्त आहार का नियमित सेवन करना आवश्यक होता है क्योंकि शरीर में कार्बोहाइड्रेट की कमी से शरीर सुस्त हो जाता है और कमजोरी महसूस होने लगती है। इसलिए अपने रोज के आहार में कार्बोहाइड्रेट युक्त चीजों का सेवन करना चाहिए। यह पढें- शारीरिक कमजोरी दूर करने के घरेलू उपाय

स्वस्थ रहने के कुछ अन्य उपाय (Other guide for good health tips in hindi)

शरीर को हेल्दी (Good health tips in hindi), रोगमुक्त और स्वस्थ व सुडौल बनाएं रखने में ऊपर बताये गए उपायों के अलावा कुछ अन्य प्रयोग भी होते हैं जैसे

  • सुबह उठने के बाद नियमित एक गिलास गुनगुना पानी पीने को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाना चाहिए।
  • सुबह की चाय खाली पेट नहीं पीनी चाहिए चाय पीने से पहले कुछ खाना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है।
  • भोजन करने से आधा घंटा पहले पानी पीना चाहिए भोजन के दौरान कभी भी पानी नहीं पीना चाहिए। इससे पाचन तंत्र पर विपरीत प्रभाव पड़ता है और कब्ज, गैस, बदहजमी जैसी समस्याएं उत्पन्न होती है।
  • खाना खाने के बाद गुड़ का सेवन अवश्य करना चाहिए इससे पाचन शक्ति मजबूत होती है तथा शरीर मे आयरन की पूर्ति होती है।
  • दोपहर बाद या रात के खाने में दही का सेवन करने से बचना चाहिए।
  • रात का खाना जल्दी खा लेना चाहिए कोशिश करें कि शाम को 7 बजे से पहले भोजन करें।
  • सुबह और शाम को भोजन करने के बाद कम से कम 500 मीटर वॉक अवश्य करना चाहिए इससे डाइजेशन सिस्टम दुरुस्त रहता है।
  • ज्यादा ठंडे पानी का सेवन करने से बचना चाहिए।
  • अनाज को हमेशा चोकर सहित ही इस्तेमाल करना चाहिए क्योंकि सभी अनाजों के चोकर में फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो कि हमारे पाचन तंत्र को मजबूत करने के लिए बहुत आवश्यक होता है।

्वस्थ रहने के लिए सावधानियां (Precaution for good health in hindi)

शरीर को स्वस्थ (Good health) रखने के लिए पोषक तत्वों युक्त भोजन और कुछ नियमित आदतों में बदलाव करने के साथ साथ कुछ सावधानियां बरतने की भी आवश्यकता होती है जैसे

  • चालीस वर्ष की आयु के बाद मीठा, नमक और चीनी का सेवन सीमित मात्रा में ही करना चाहिए क्योंकि यह हमारे उत्तम स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक आहार माने जाते हैं। यह पढें- इन चार व्हाइट फूड का करें परहेज
  • स्वस्थ रहने के लिए आवश्यक है कि अल्कोहल, धूम्रपान व नशीले पदार्थों का सेवन करने से बचना चाहिए।
  • भरपेट भोजन करने से बचना चाहिए नियमित भूख से कम भोजन करना स्वस्थ व निरोगी रहने के लिए उत्तम माना गया है।

FAQ

Q 1. क्या खाने से शरीर तंदुरुस्त रहता है?

Ans  नियमित हरी सब्जियां और फलों का सेवन करना शरीर के लिए फायदेमंद माना जाता है ताजे फल और हरी सब्जियों को खाने से शरीर स्वस्थ और तंदुरुस्त रहता है तथा इनके सेवन से बीमारियों का खतरा भी कम होता है। भोजन को हमेशा अच्छी तरह से चबाकर ही खाना चाहिए क्योंकि इससे हमारा डाइजेशन सिस्टम दुरुस्त रहता है और शरीर भी स्वस्थ रहता है।

Q 2. शरीर को स्वस्थ रखने के लिए क्या करें?

Ans  स्वस्थ और निरोगी शरीर और अच्छे स्वास्थ्य की टिप्स (Good health tips) के लिए नियमित खानपान और जीवन शैली पर उचित ध्यान देने की आवश्यकता होती है। हमेशा पौष्टिक भोजन करें। भोजन के साथ-साथ शरीर को स्वस्थ रखने में शारीरिक एक्टिविटीज का भी बहुत बड़ा योगदान होता है। इसलिए नियमित योग, व्यायाम व एक्सरसाइज को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं। भरपूर नींद लें और तनावमुक्त रहें।

Q 3. फिट रहने के लिए क्या नहीं खाना चाहिए?

Ans  हमेशा फिट और तंदुरुस्त रहने के लिए फास्ट फूड, जंक फूड, अधिक तैलीय पदार्थों, तेज मिर्च मसालों आदि का सेवन नहीं करना चाहिए या बहुत कम मात्रा में करना चाहिए। इसके अलावा पैकेट फूड्स या जूस भी शरीर में रोग उत्पन्न करने में सहायक होते हैं। तथा इन चीजों में कैलोरी भी अधिक होती है और पोषक तत्व बहुत कम मात्रा में होते हैं। इसलिए इन चीजों का सेवन करने से बचना चाहिए।

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में हमने जाना शरीर को स्वश्थ रखना क्यों जरूरी है और क्या खाने से बॉडी हैल्दी रहती है। तथा हमेशा स्वश्थ और निरोगी रहने के लिए अच्छी आदतें (Good health tips) कोनसी है।

इस आर्टिकल स्वस्थ रहने की अच्छी आदतें (Good health tips in hindi) के बारे में आपके कोई सुझाव या सवाल हो तो comment बॉक्स में अवश्य लिखें और पोस्ट को अपने परिवार व दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

इन्हें भी पढ़े-

Leave a Comment