सर्दियों में फटी एड़ियों से राहत पाने के उपाय | Best Crack heel care tips in hindi

फटी एड़ियों का उपाय (Best crack heel tips in hindi)

सर्दियों के मौसम में अक्सर लोग चेहरे का ख्याल ज्यादा रखते हैं लेकिन इस दौरान पैरों की देखभाल पर ज्यादा ध्यान नहीं देते। इस कारण एड़ियों में रूखापन, एड़ियां फटने जैसी समस्याएं होना आम बात होती है। इस आर्टिकल में जानेंगे कि सर्दियों के मौसम में एड़ियों का ख्याल कैसे रखें (Crack heel care tips in hindi) और एड़ियों को स्वस्थ और मुलायम कैसे बना सकते हैं आइए जानते हैं। सर्दियों में फटी एड़ियों से राहत पाने के उपाय  Best Crack heel care tips in hindi

ठंड के मौसम में फटी एड़ियां या फटी हुई बिवाइयां बहुत तकलीफ दायक होती है। यह पंजों का रूप भी बिगाड़ सकती है इसलिए सर्दियों में एड़ियों को सॉफ्ट मुलायम और साफ बनाएं रखना जरूरी होता है। क्योंकि फटी एड़ियां खूबसूरती में भी दाग लगा देती है। कुछ को तो यह समस्या सर्दियों में होती है लेकिन कई लोगों को पूरे साल एड़ियों के फटने की समस्या रहती है।

सर्दियों में स्किन में रूखापन व मुरझाई हुई त्वचा की समस्या अधिक होती है। इसलिए ठंड के मौसम में स्किन को लेकर सजकता रखना जरूरी होता है स्किन को हेल्दी रखने के घरेलू उपाय जानने के लिए यह पढें

एड़ियां फटने के कारण (Causes of crack heels in hindi)

ठंड के समय मौसम में बदलाव और स्किन का ड्राई होने के कारण क्रेक हील्स की समस्या होना आम होता है। इसके अलावा स्किन में रूखापन व त्वचा के फटने का कारण शरीर में विटामिन्स की कमी या हार्मोनल परिवर्तन भी तो सकता है।

हमारे शरीर में विटामिन ई, विटामिन सी व विटामिन बी3 की कमी होने के कारण भी फटी एड़ियां (Crack heel) या स्किन सम्बंधी समस्याएं हो जाती है। इसके अलावा शरीर मे ओमेगा 3 फैटी एसिड व जिंक की कमी होने पर भी एड़ियों के फटने जैसी समस्याएं उत्पन्न हो जाती है।

पोष्टिक आहार का सेवन (Food for Crack heel care tips in hindi)

एड़ियों को फटने से बचाने और त्वचा में नमी बनाए रखने के लिए नियमित पौष्टिक आहार का सेवन करना चाहिए। अपने नियमित आहार में जिंक, विटामिन सी, विटामिन ई, ओमेगा 3 फैटी एसिड और विटामिन B3 से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए।  नियमित आहार में सीड्स और ड्राई फ्रूट्स का उपयोग करना भी इस समस्या से छुटकारा दिलाने में मददगार होता है

क्योंकि इनसे शरीर में ड्राईनेस को कम करने में मदद मिलती है और स्किन के लिए आवश्यक पोषक तत्वों की भी प्राप्ति होती है जिससे त्वचा में नमी बरकरार रहेगी और त्वचा स्वस्थ रहेगी।

फटी एड़ियों को सॉफ्ट करने के उपाय (Home remedies for crack heel care tips in hindi)

नमी बनाएं रखें

अपनी एड़ियों और पैरों की देखभाल करने के लिए यह सबसे आसान व बेहतर उपाय होता है। इसलिए सर्दियों के मौसम में रात को सोने से पहले नियमित पैरों व एड़ियों पर मक्खन या एलोवेरा जेल अवश्य लगाना चाहिए जिससे त्वचा में नमी बनी रहे।

रात को सोने से पहले नियमित एक अच्छी फुट क्रीम लगाएं और पैरों में नमी बरकरार रखने के लिए अपने पैरों में मोज़े जुराब अवश्य पहननी चाहिए।

तेल मालिश

तेल का उपयोग ना केवल बालों को बल्कि त्वचा के लिए भी सबसे अच्छा प्राकृतिक मॉइस्चराइजर होता है। सरसों, जैतून या नारियल के तेल को हल्का गुनगुना गर्म करके एड़ियों में रोजाना लगाने से फटी एड़ियों की समस्या में फायदा होता है। इनके साथ अन्य तेलों को भी मिलाकर लगाना मददगार साबित हो सकता है।

ठंड के मौसम में स्किन की ड्राई नेस की समस्या से बचने के लिए नारियल के तेल से पूरे शरीर की त्वचा पर हफ्ते में एक दिन मालिश अवश्य करनी चाहिए। इससे त्वचा में नमी बरकरार रखने में मदद मिलती है और स्किन सॉफ्ट रहती है।

क्रीम लगाएं

एड़ियों व पैरों को मुलायम रखने के लिए रोज रात को सोने से पहले थोड़ी सी पेट्रोलियम जेली लेकर इससे धीरे धीरे अपने पैरों व एड़ियों पर मालिश करें। एड़ियों में रूखी और फटी हुई त्वचा ज्यादा होती है इसलिए पैरों को मॉइस्चराइज जरूर करें। ऐसा कुछ दिनों तक लगातार करने से एड़ियां व पैरों की त्वचा सॉफ्ट व मुलायम होती है।

ग्लिसरीन

ग्लिसरीन सबसे अच्छे मोइश्चराइजर्स में से एक मानी जाती है। इसलिए इसे गुलाब जल के साथ मिलाकर सोने से पहले एड़ियों पर लगाएं। इससे एड़ियां मुलायम और सॉफ्ट बनती है। जब एड़ियां बिल्कुल सही हो जाये तो इस ग्लिसरीन लोशन को नियमित नहाने के बाद लगाएं ताकि दुबारा ऐसी समस्या न हो पाए और पैरों की त्वचा मुलायम बनी रहे।

फुट मास्क

एड़ियों और पैरों के लिए फुट मास्क बनाने के लिए एक पका हुआ केला लें, उसमें नारियल के तेल की कुछ बूंदे और नींबू के रस की कुछ बूंदें डालकर अच्छी तरह से मिलाएं।  अच्छे से मिल जाने के बाद इसे 10 मिनट तक अपने पैरों और एड़ियों पर लगा हुआ रहने दें। फिर ठंडे पानी से इसे धो लें।

बेहतर परिणाम के लिए हफ्ते में कम से कम एक बार फुट मास्क जरूर लगाएं। आजकल बाजार में तैयार फुट मास्क भी आसानी से मिल जाते हैं इसलिए इनका प्रयोग अवश्य करना चाहिए।

फ्रूट मास्क

फ्रूट मास्क फटी एड़ियों की समस्या से छुटकारा दिलाने में बहुत मददगार होता है। इसलिए केला और पपीता फ्रूट मास्क बनाने के लिए सबसे अच्छे फल माने जाते हैं। क्योंकि इन्हें आसानी से मैश करके इनसे एड़ियों पर मालिश की जा सकती हैं।

इससे हफ्ते में दो बार एड़ियों और पैरों पर अच्छे से मालिश करें और 10 – 15 मिनट बाद पैरों को धो लें। इससे क्रेक हील्स की समस्या (Crack heel care tips in hindi) से बहुत जल्द छुटकारा पाया जा सकता है।

शुगर स्क्रब

यह त्वचा की मृत कोशिकाओं से छुटकारा दिलाने में मददगार होता है। साथ ही शुगर स्क्रब टैन हटाने में भी  फायदेमंद माना जाता है। शुगर स्क्रब बनाने के लिए दो बड़े चम्मच सामान्य चीनी या शक्कर में दो चम्मच जैतून का तेल मिलाकर मिश्रण तैयार कर लें।

इस मिश्रण से 5 – 10 मिनिट तक पैरों व एड़ियों पर स्क्रब करें। उसके 10 मिनिट बाद में पैरों को पानी से धो लें। ऐसा करने से डैड स्किन हटने के साथ साथ एड़ियां मुलायम बनती है।

पसीना अधिक आना

अगर किसी को सर्दियों के मौसम में भी पैरों में बहुत ज्यादा पसीना आता है तो इसके कारण पैरों में आने वाली पसीने की गंध या फंगल इंफेक्शन से छुटकारा पाने के लिए गुनगुने पानी में सेव का सिरका मिलाकर अपने दोनों पैरों को कुछ देर तक इसमें डुबोएं रखें। यह प्रयोग हफ्ते में दो बार करने से पैरों की दुर्गंध व पसीने की समस्या से छुटकारा मिलता है।

इस आर्टिकल फटी एड़ियों के घरेलू उपाय (Best Crack heel care tips in hindi) के बारे में आपके कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेंट बॉक्स में लिखें और पोस्ट को शेयर अवश्य करें ताकि किसी जरूरतमंद की मदद हो सके।

इन्हें भी पढ़े

Leave a Comment