शारीरिक कमजोरी दूर करने के उपाय | Body weakness treatment in hindi

शरीर की कमजोरी दूर करने के घरेलू उपाय (Home remedies for Body weakness in hindi)

आज के समय में कैमिकल युक्त खाद्य पदार्थों के कारण  Body Weakness आम समस्या है शारीरिक कमजोरी इंसान के आत्मविश्वास को तोड़ देती है। शारीरिक दुर्बलता के कारण इंसान का मन किसी भी काम में नहीं लगता और व्यक्ति शरीर की वीकनेस के कारण मानसिक परेशानी का भी शिकार हो जाता है। इस लेख में जानेंगे बॉडी वीकनेस के कारण शारीरिक कमजोरी दूर करने के घरेलू उपाय और शारीरिक दुर्बलता दूर करने के लिए क्या खाएं जिससे शरीर ऊर्जावान बन सके आइये जानते है। शारीरिक दुर्बलता दूर करने के उपाय Sharirik Kamjori keise dur karen

शारीरिक कमजोरी के कारण क्या है (Causes of Body weakness in hindi) 

बॉडी वीकनेस या शरीर में कमजोरी आने का सबसे बड़ा कारण पौष्टिक भोजन का न करना इसके आलावा अधिक तनाव ग्रस्त रहने के कारण भी बॉडी में वीकनेस आती है। हर इंसान की इच्छा होती है की उसका शरीर ताकतवर और बलवान बना रहे। इसलिए शारीरिक कमजोरी दूर करने के लिए अपने नियमित आहार और जीवनशैली में कुछ सामान्य से बदलाव करके इस समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है।

जब तक हमें शरीर में कमजोरी का कारण पता नहीं चलता तब तक इस समस्या से छुटकारा पाना कठिन है इसलिए शारीरिक कमजोरी के कारण जानते है । बॉडी वीकनेस के बहुत से कारण हो सकते है इसके कुछ मुख्य कारण है जैसे

  • अधिक चिंताग्रस्त या डिप्रेशन में रहने के कारण
  • शारीरिक गतिविधिया न करना या गतिहीन जीवनशैली के कारण
  • किसी लम्बी बीमारी या सक्रमण के कारण
  • विटामिन्स की कमी के कारण
  • खून की कमी के कारण
  • डायबिटीज जैसी बीमारी के कारण
  • पौष्टिक व् असंतुलित आहार की कमी के कारण
  • बढ़ती उम्र भी शारीरिक कमजोरी का एक कारण है

Contents

शारीरिक ऊर्जा बढ़ाने के घरेलु उपाय (Body weakness treatment at home in hindi)

सफेद मूसली के फायदे 

इस शक्ति वर्धक जड़ी बूटी का मुख्य उपयोग सेक्स पावर बढ़ाने और शरीर को ताकतवर बनाने के लिए किया जाता है। यह सेक्स क्षमता बढ़ाने के साथ साथ गठिया, डायबिटीज, नपुसंकता आदि बीमारियों को दूर करने में भी सफेद मूसली सहायक होती है है। किसी भी प्रकार की कमजोरी Body weakness दूर करने का यह रामबाण उपाय है।

जानवरों पर किए गए शोध के अनुसार इसमें एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं। इसको चूर्ण,पाउडर व पाक के रूप में उपयोग किया जाता है। शरीर को बलशाली बनाने के लिए 1 से 2 ग्राम की मात्रा में दूध के साथ दिन में 2 बार इसका प्रयोग कर सकते हैं। मूसली रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ाती है।

कौंच बीज के फायदे 

यह बीच पुरुषों के लिए वरदान से कम नहीं है यह पिता बनने के सपने को पूरा करने में बहुत सहायक है उसके बीच का नियमित सेवन थकान एवं शारीरिक कमजोरी दूर करता है इससे बॉडी मजबूत व सुडौल बनती है। यह योगिक पिट्यूटरी ग्रंथि को उत्तेजित करता है बढ़ती उम्र के कारण होने वाली Body weakness कमजोरी को भी रोकता है कोच बीज में प्रोटीन,हेल्दी फैट्स ,फाइबर जैसे तत्व पाए जाते हैं।

इसके सेवन से अनिद्रा एवं तनाव भी कम होता है और मूड भी बेहतर बना रहता है यह शरीर को एनर्जी भी बहुत प्रदान करता है जिससे शरीर स्वस्थ रहता है इन बीजों में पाए जाने वाले तत्व इम्यून सिस्टम बढ़ाने में भी सहायक है। इसलिए इनका नियमित सेवन करना स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है।

शिलाजीत के फायदे 

शिलाजीत के सेवन से पुरुष मर्दानगी में बढ़ोतरी होती है वह संभोग क्षमता भी बढ़ाने में सहायक होता है इसमें टेस्टोस्टेरोन हार्मोन होने के कारण इसके सेवन से आपकी परफॉर्मेंस व मर्दानगी भी बहुत बढ़ती है।  शिलाजीत का दूध के साथ नियमित सेवन करने से स्पर्म काउंट में भी बढ़ोतरी होती है। इसमें भरपूर मात्रा में आयरन भी होता है इसमें पाया जाने वाला Folic Acid दिमाग की कार्य क्षमता बढ़ता है।

यह इम्यूनिटी भी बहुत मजबूत करता है। लंबे समय तक जंवा रहने के लिए भी शिलाजीत काफी फायदेमंद होता है इसमें anti-diabetic गुण होने के कारण यह डायबिटीज के उपचार और इसके जोखिम को कम करने में मदद करता है। यह पढ़ें ~ शिलाजीत के फायदे और नुकसान

गोखरू के फायदे 

गोखरू ऐसी जड़ी बूटी है जो सदियों से मानव जीवन के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद साबित हुआ है। यह वात, पित्त और कफ तीनों के लिए सहायक है गोखरू के फल और सोंठ को बराबर मात्रा मिलाकर काढ़ा बनाकर सेवन करने से जोड़ों व कमर दर्द में आराम मिलता है। 250 ग्राम दूध में 20 ग्राम गोखरू फल उबालकर सुबह-शाम सेवन करने से शुक्राणु व वीर्य संबंधी समस्याएं कम होती है।

पुरुषों में मेल हारमोंस बढ़ाने में गोखरू सहायक होता है। इसके अलावा यह प्रजनन क्षमता बढ़ाने,स्तम्भन व कामेच्छा के लिए भी कारगर जड़ी बूटी होता है। इससे पिता बनने की समस्या का समाधान होता है और शरीर भी शक्तिशाली बनाता है।

अश्वगंधा के फायदे 

इसके पौधे को मसलने पर घोड़े के पेशाब जैसी गंध आती आती है यह ही इसकी असली होने की पहचान है इसी कारण इसका नाम अश्वगंधा पड़ा अश्वगंधा चूर्ण,तिल व घी तीनों को समान मात्रा में लेकर थोड़ा सा शहद मिलाकर रोजाना एक-दो ग्राम शाम के समय दूध के साथ नियमित प्रयोग करने से शारीरिक व मानसिक कमजोरी दूर होकर शरीर बलवान व मजबूत बनता है।

अश्वगंधा और मिश्री समान भाग 10- 10 ग्राम लेकर ढाई सौ ग्राम गुनगुने दूध के साथ नियमित सेवन करने से वीर्य विकार शारीरिक कमजोरी दूर होकर सेक्सुअल स्टैमिना को बढ़ाता है।

शतावर के फायदे 

सतावर में घुलनशील और अघुलनशील फाइबर होते हैं जो वजन को कम करने में मददगार है यह एंटी ऑक्सीडेंट तत्व से भरपूर है जो दिल की बीमारियों से बचाने में मददगार है इसके इस्तेमाल से झुरिया दूर होकर चेहरे पर चमक आती है। उम्र को चेहरे पर हावी नहीं होने देती है मर्दानगी ताकत या स्टैमिना की कमी को दूर करने के लिए आप शतावर का उपयोग कर सकते हैं।

गाय के दूध के साथ शतावरी चूर्ण की खीर बनाकर खाने से सेक्सुअल स्टैमिना भी बहुत बढ़ता है। रोज 5 से 7 ग्राम शतावर को घी के साथ सेवन करना वीर्य की कमी को दूर करने में मदद करता है। शतावर की जड़ का चूर्ण और मिश्री मिलाकर रोज रात को सोने से पहले दूध के साथ सेवन करने से स्वप्नदोष से छुटकारा मिलता है।

दूध में शहद के फायदे 

दूध के साथ शहद का सेवन करने से शरीर में ताकत की उत्पत्ति होती है। यह मिश्रण ह्रदय, पेट और दिमाग के लिए फायदेमंद होता है। दूध के साथ शहद का नियमित सेवन करना शरीर को ताकतवर और निरोगी रखने में काफी मदद करता है।

साथ ही थकान को दूर करके ताकत को बनाए रखता है। शारीरिक कमजोरी की समस्या होने पर नियमित सुबह और शाम के समय दूध के साथ एक चम्मच शहद का सेवन करना बहुत ही लाभदायक होता है।

किशमिश के फायदे 

इसमें में पर्याप्त मात्रा में आयरन पाया जाता है। खून के निर्माण के लिए आवश्यक विटामिन बी कॉन्प्लेक्स की पूर्ति करने में किशमिश सहायक होती है। यह वजन को बढ़ाने के लिए भी उपयोगी है। इसके नियमित सेवन से पेट की समस्या से छुटकारा मिलता है तथा कब्ज की समस्या नहीं होती।

यह कामेच्छा को भी उत्तेजित करने में सहायक होती है। इसलिए यौन दुर्बलता और शारीरिक कमजोरी दूर करने के लिए भी इसका सेवन किया जाता है। इसमें कुछ ऐसे तत्व भी पाए जाते हैं। जो हड्डियों को मजबूती देने का काम करते हैं।

इसमें में एंटीऑक्सीडेंट गुण भी पाया जाता है। जो इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने के साथ-साथ आंखों की रोशनी भी बढ़ाता है। इसलिए शारीरिक कमजोरी की समस्या होने पर दूध के साथ किशमिश का नियमित सेवन करना लाभदायक है।

दही का सेवन

शारीरिक कमजोरी की समस्या होने पर दही का सेवन जरूर करना चाहिए। क्योंकि दही में बहुत से आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते हैं। जैसे कैल्शियम, पोटेशियम और विटामिन बी जो हमारे शरीर और मांसपेशियों को ऊर्जा प्रदान करने का काम करते हैं।

इसमें नेचुरल शुगर भी पाया जाता है। यह कमजोर मांसपेशियों के लिए ऊर्जा उत्पादन में सहायक है। इसलिए हर किसी को सुबह के समय सामर्थ्य अनुसार दही का नियमित सेवन करना चाहिए ।

शरीर की कमजोरी दूर करने के लिए क्या खाएं (Body weakness treatment food in hindi)

  • अश्वगंधा चूर्ण और विदारीकंद दोनों को सौ सौ ग्राम की मात्रा में लेकर बारीक चूर्ण बनाकर आधा-आधा चम्मच चूर्ण को नियमित सुबह-शाम दूध के साथ सेवन करने से Body weakness दूर होकर शरीर बलशाली और मजबूत बनता है।
  • कोच के बीज 100 ग्राम, ताल मखाना 100 ग्राम और मिश्री 100 ग्राम इन तीनों को कूट पीसकर चूर्ण बनाकर इस चूर्ण का आधा चम्मच की मात्रा में शाम के समय नियमित दूध के साथ सेवन करने से शरीर में किसी भी प्रकार की कमजोरी दूर होकर मर्दाना ताकत में वृद्धि होती है।
  • दालचीनी पाउडर और शहद को मिलाकर नियमित सेवन करने से शरीर का इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। व शरीर की कमजोरी दूर होती है।
  • दूध और केला का नियमित सेवन करने से Body weakness दूर होने के साथ-साथ हड्डियां भी मजबूत होती है। इसके लिए नियमित केला खाकर ऊपर से गर्म दूध पीने से बहुत जल्द लाभ मिलता है।
  • शरीर के लिए जरूरी पोषक तत्वों की पूर्ति के लिए फलों और सब्जियों के रोस्टेड बीजों को भी काफी उपयोगी माना गया है इसलिए शरीर की मजबूती के लिए नियमित सुबह के समय बीजों सेवन लाभ पहुँचता है और पढें – बीजों के फायदे
  • स्वस्थ व निरोगी जीवन और मजबूत व शक्तिशाली शरीर के लिए ड्राईफ्रूट्स का सेवन भी एक कारगर औषधि की तरह काम करता है इन नट्स के बारे में विस्तार से जानने के लिए पढें – जानें ड्राईफ्रूट्स के फायदे

FAQ : शारीरिक कमजोरी दूर करने के लिए पूछे जाने वाले सवाल जवाब

Q 1. शरीर की कमजोरी दूर कैसे की जा सकती है ?

Ans – शारीरिक कमजोरी दूर करने के लिए अपनी दिनचर्या में बदलाव के साथ-साथ खान-पान की आदतों में भी सुधार करना आवश्यक होता है। नियमित ऐसे फूड्स का सेवन करें जिनसे शरीर को पोषक तत्व की प्राप्ति हो सके। जंक फूड, फास्ट फूड, शराब, तंबाकू आदि का सेवन नहीं करना चाहिए।

Q 2. क्या शारीरिक कमजोरी दूर करने के लिए आयुर्वेदिक हर्बल उत्पाद कारगर होते हैं ?

Ans – शरीर में ताकत बढ़ाने में आयुर्वेदिक उत्पाद बहुत उपयोगी होते हैं। इसके लिए नियमित अश्वगंधा, शतावरी, सफेद मुसली, छुहारा, किशमिश, आंवला, दालचीनी आदि का सेवन करना लाभदायक होता है।

Q 3. क्या गाय का घी खाने से शारीरिक कमजोरी दूर होती है ?

Ans – गाय के घी में लिनोलिक एसिड पाया जाता है जो शरीर की चर्बी को कम करता है। साथ ही इसके सेवन से कोलेस्ट्रोल भी नहीं बढ़ता आयुर्वेद के जानकार मानते हैं कि गाय का घी एक प्रकार का टॉनिक है जो जवानी को बरकरार रखता है और बुढ़ापे को दूर करने में सहायक है।

Q 4. शरीर को फिट और मजबूत रखने के क्या उपाय हैं ?

Ans – हमेशा फिट और तंदुरुस्त रहने के लिए पर्याप्त मात्रा में पौष्टिक आहार और फल व फलों के जूस का सेवन नियमित करना चाहिए इससे शरीर में कमजोरी नहीं रहेगी। इसके अलावा योग, व्यायाम व शारीरिक एक्टिविटी के साथ सुबह-शाम नियमित टहलना भी लाभदायक होता है।

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में हमने जाना शरीर में कमजोरी या Body weakness क्यों आती है शरीर के कमजोर होने से कोनसी समस्याएं होती है और शारीरिक कमजोरी दूर करने के लिए क्या खाएं (Takatwar kaise bane) तथा शारीरिक दुर्बलता दूर करने के घरेलु उपाय कौन कौन से है।

लेख के बारे में आपके कोई भी सुझाव या सवाल हो तो आप हमसे पूछ सकते है यह आर्टिकल शारीरिक दुर्बलता दूर करने के उपाय आपको कैसा लगा Comment करके अवश्य बताएं और आर्टिकल को Share भी करें ताकि किसी जरूरतमंद की हेल्प हो सकें।

इस आर्टिकल में लिखी गई तमाम जानकारियों को सूचनात्मक उद्देश्य से लिखा गया है। अतः किसी भी सुझाव को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श अवश्य कर लेवें।

इन्हें भी पढ़ें-

Leave a Comment