बेसन खाने के फायदे और नुकसान | Best besan benefits in hindi

बेसन खाने के फायदे क्या है (Benefits and side effects of gram flour in hindi)

बेसन का प्रयोग भारतीय किचन में अनेक प्रकार के खाद्य पदार्थ व व्यजन बनाने में किया जाता है। किसी प्रोग्राम या त्योहार में बनने वाली स्वादिष्ट मिठाइयां हो या चटपटा कुछ बनाना हो हर किसी के लिए बेसन की आवश्यकता होती है। बेसन का उपयोग स्वाद बढ़ाने के साथ साथ सेहतमंद रखने में भी फायदेमंद (besan benefits in hindi) होता है। इसलिए इस लेख में जानेंगे बेसन खाने के फायदे (Besan benefits in hindi) और बेसन का सेवन करने से कौन कौन से स्वास्थ्य लाभ होते हैं आइए जानते हैं बेसन खाने के फायदे क्या है Eating Gram flour besan benefits in hindi

Contents

इसकी (बेसन) की तासीर ठंडी समझी जाती है और यह सुवासित व पौष्टिक होने के कारण हर ऋतु में लाभदायक समझा जाता है। वैदिक साहित्य में जिस चणक का उल्लेख मिलता है, वह चना ही है। आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति  के अनुसार ह्रदय रोग, रक्तचाप और मधुमेह के पीड़ित रोगियों को बेसन का उपयोग करने की सलाह दी जाती है।

जो लोग बेसन से परहेज करते हैं। उन्हें यह समझने की आवश्यकता है कि परेशानी बेसन की वजह से नहीं है लेकिन अति से होती है। भुजिया, पकोड़े आदि व्यजनों से जो अपच गैस की समस्या होती है वह तेल में तलने के कारण होती है ना की बेसन की वजह से होती है। बल्कि बेसन तो स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद (Eating besan benefits in hindi) होता है।

बेसन क्या है (What is gram flour in hindi)

यह (बेसन) अत्यंत बारीक और मुलायम आटा होता है जिसे छिलका रहित चने की दाल को पीसकर बनाया जाता है। इसे कच्चे चने या फिर भुने हुए चने से भी बनाया जा सकता है। यह खाने में बहुत ही पौष्टिक होता है। कढ़ी बनाने में बेसन का ही प्रयोग किया जाता है क्योंकि बिना बेसन की कढ़ी बनाना संभव ही नहीं है।

राजस्थान में जो गट्टे की सब्जी नायाब समझी जाती है उसके लिए बेसन अनिवार्य है। बेसन से अनेक प्रकार के व्यंजन भी बनाए जाते हैं।

बेसन में मौजूद पोषक तत्व (Besan Gram flour nutritional value in hindi)

यह पोषक तत्वों (Gram flour nutrition) का भंडार होता है। इसमें बहुत से पौष्टिक तत्व होते हैं जैसे प्रोटीन, आयरन, विटामिन, फाइबर, फैट आदि जो स्वस्थ रहने के लिए फायदेमंद (Besan benefits) साबित हो सकते हैं। 100 ग्राम बेसन में निम्नलिखित पोषक तत्व पाए जाते हैं।

पोटैशियम           –           846  मिलीग्राम

मैग्नीशियम।         –            41  प्रतिशत

विटामिन बी6       –           25  प्रतिशत

आयरन                –           27  प्रतिशत

कैल्शियम             –            4  प्रतिशत

वसा                      –            7  ग्राम

कोलेस्ट्रॉल             –            0  मिलीग्राम

शुगर                     –           11  ग्राम

सोडियम                –           64  मिलीग्राम

रेशा                      –           11  ग्राम

कैलोरी                  –           387  मिलीग्राम

थायमिन                –           0.4  मिलीग्राम

जिंक                    –           2.6  मिलीग्राम

कॉपर                   –           0.8  मिलीग्राम

विटामिन के           –           10  प्रतिशत

विटामिन ए            –            1  प्रतिशत

नियासिन               –          1.6  मिलीग्राम

राइबोफ्लेविन         –         0.1  मिलीग्राम

बेसन का सेवन करने के स्वास्थ्य लाभ (Health benefits of besan in hindi)

 

ह्रदय रोग में बेसन के फायदे (Heart disease besan benefits in hindi)

बेसन में पर्याप्त मात्रा में उच्च घुलनशील फाइबर पाया जाता है जो हार्ट को स्वस्थ रखने में फायदेमंद होता है। इसके सेवन से ह्रदय से संबंधित बीमारियों से भी काफी हद तक बचा जा सकता है। यह हार्ट को स्वस्थ रखने के साथ साथ हाई कोलेस्ट्रॉल व हाई ब्लड प्रेशर जैसी समस्याओं से भी राहत दिलाने में मददगार होता है।

इसलिए दिल से संबंधित रोगों से बचने के लिए नियमित बेसन का सेवन करना उपयोगी माना जाता है। अगर आप जानना चाहते हैं कि ह्रदय रोग में क्या खाएं और क्या नही खाना चाहिए तो यह पढें- ह्रदय रोग में आहार चार्ट

मधुमेह रोग में बेसन के फायदे (Diabetes besan benefits in hindi)

बेसन का नियमित सेवन करना डायबिटीज के रोगियों के लिए फायदेमंद होता है। इसके सेवन से शरीर को पर्याप्त मात्रा में ऊर्जा प्राप्त होने के साथ-साथ यह मधुमेह के स्तर को भी नियंत्रित करने में मददगार होता है। बेसन में कार्बोहाइड्रेट और शुगर कम होता है। इसलिए यह डायबिटीज रोग में उपयोगी होता है।

मधुमेह से पीड़ित रोगियों को गेहूं की बजाय बेसन के आटे से बनी हुई रोटियों का सेवन करना फायदेमंद होता है। क्योंकि गेहूं रक्त में शर्करा की मात्रा को बढ़ाता है जबकि बेसन इसे नियंत्रित करने में सहायक होता है।

एनीमिया में बेसन के फायदे (Anemia besan benefits in hindi)

बेसन में फोलेट और आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। जिससे शरीर के लिए पर्याप्त मात्रा में आयरन को प्राप्त करने में मदद मिलती है। शरीर में आयरन की कमी से एनीमिया रोग होता है। बेसन में फोलिक एसिड व विटामिन बी12 भी होता है। इसलिए खून की कमी या एनीमिया में बेसन का सेवन फायदेमंद होता है।

इससे ब्लड में हीमोग्लोबिन की मात्रा में भी वृद्धि होती है और शरीर में खून की कमी के कारण होने वाली समस्याओं से भी बचने में मदद मिलती है। साथ ही इसके सेवन से रक्त में लाल रक्त कोशिकाओं (Red blood cells) में भी बढ़ोतरी होती है।

हड्डियों के लिए बेसन के फायदे (Bone besan benefits in hindi)

बेसन में मौजूद कैल्शियम, मैग्नीशियम और अन्य महत्वपूर्ण खनिज तत्व हड्डियों को मजबूत बनाने में मददगार होते हैं। इसमें पाया जाने वाला फास्फोरस शरीर में कैल्शियम के साथ मिलकर हड्डियों के निर्माण में सहायक होता है।

इसलिए हड्डियों के विकास और हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए बेसन का नियमित सेवन करना फायदेमंद माना जाता है। इसके साथ यह शरीर में कैल्शियम की कमी को भी पूरा करने में भी काफी मदद करता है।

शारीरिक कमजोरी दूर करने में बेसन के फायदे (Body Weaknessbesan benefits in hindi)

बेसन थायमीन विटामिन का भी अच्छा स्रोत होता है जो हमारे भोजन को उर्जा में परिवर्तित करके थकान और शारीरिक कमजोरी को दूर करने में मदद करता है। शरीर मे किसी भी प्रकार की कमजोरी को दूर करके शारीरिक और मानसिक विकास के लिए बेसन व भीगे हुए चने बहुत उपयोगी माने जाते है।

इसलिए शरीर को बलशाली व ताकतवर बनाने के लिए बेसन का नियमित सेवन करना फायदेमंद होता है। शारीरिक कमजोरी दूर करने के लिए घरेलू नुस्खों के बारे में जानने के लिए यह पढें- शारीरिक दुर्बलता दूर करने के घरेलू उपाय

इम्यून सिस्टम मजबूत करने में बेसन के फायदे (Immunity system besan benefits in hindi)

बेसन अत्यंत पौष्टिक होने के साथ-साथ इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व प्रतिरक्षा प्रणाली को भी मजबूत करते हैं। इसलिए बेसन का नियमित सेवन करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता भी अच्छी होती है। यह शरीर के लिए सभी आवश्यक पोषक तत्वों की पूर्ति करने में काफी मददगार होता है।

जिससे अनेक बीमारियों से बचने के साथ शरीर को स्वस्थ व निरोग रखने में भी यह सहयोग करता है। जो लोग अक्सर बीमारी की चपेट में आ जाते हैं उनको बेसन का नियमित सेवन करना चाहिए।

रक्तचाप नियंत्रित करने में बेसन के फायदे (Blood Deficiency besan benefits in hindi)

बेसन का उपयोग करने से रक्तचाप को भी नियंत्रित करने में मदद मिलती है। बेसन शरीर में पर्याप्त मात्रा में सोडियम की पूर्ति करता है तथा अतिरिक्त सोडियम को बाहर निकालता है, जिससे रक्तचाप नियंत्रित रहता है। इसके अलावा कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित करने में भी बेसन सहायक होता है। क्योंकि कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने के लिए फाइबर की आवश्यकता होती है और वह इसमें पचुर मात्रा में पाया जाता है।

इसलिए हाई ब्लड प्रेशर व कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखने और हार्ट रोगों के खतरे से बचने के लिए नियमित बेसन का सेवन अवश्य करना चाहिए।

वजन नियंत्रित करने में बेसन के फायदे (Weight Manage besan benefits in hindi)

मोटापा कम करने या शरीर का वजन नियंत्रित करने में भी बेसन बहुत उपयोगी होता है। जो लोग नियमित बेसन का सेवन करते हैं उनके  शरीर में जरूरत से ज्यादा वसा एकत्रित नहीं हो पाती है जिसके कारण उनका वजन सामान्य रहता है।

इसलिए शरीर में जमा अतिरिक्त वसा से छुटकारा पाने और शरीर का वजन नियंत्रित रखने के लिए नियमित बेसन का सेवन करना फायदेमंद साबित होता है। अगर आप शरीर का वजन नियंत्रित रखने के लिए डाइट प्लान जानना चाहते हैं तो यह पढ़ें- वजन घटाने के लिए डाइट प्लान

दिमाग तेज करने में बेसन के फायदे (Mind besan benefits in hindi)

बेसन में फोलेट पाया जाता है जो दिमाग को स्वस्थ रखने के साथ-साथ दिमाग की कार्य क्षमता को भी बढ़ाता है। तथा यह याददाश्त तेज करने में भी मददगार होता है। यह बुद्धि को तेज करने के साथ मानसिक तनाव में भी राहत दिलाने में उपयोगी माना जाता है।

इसलिए जिन लोगों को भूलने की समस्या तथा मानसिक परेशानी हो उन लोगों को बेसन का सेवन करने से काफी राहत मिलती है। साथ ही इसका सेवन करने से मस्तिष्क की कार्य क्षमता बढ़ाने व हेल्थी रखने में भी मदद मिलती है।

सूजन कम करने में बेसन के फायदे (Inflammation besan benefits in hindi)

बेसन में फाइबर और फाइटोन्यूट्रिएंट्स की मात्रा अधिक पाई जाती है जो सूजन को कम करने में मददगार है। बेसन का नियमित सेवन करने से पाचन क्रिया में भी सुधार होता है तथा इसके सेवन से आँतो की सूजन दूर होने के साथ साथ इनकी कार्य क्षमता में भी सुधार होता है। अगर आप आँतो को स्वस्थ रखने और सूजन से राहत पाने के बारे में जानना चाहते हैं तो यह पढ़ें- आँतो की सूजन के घरेलू उपाय

कब्ज दूर करने में बेसन के (Constipation besan benefits in hindi)

बेसन फाइबर का बहुत अच्छा स्रोत होता है। इसलिए कब्ज से राहत पाने के लिए बेसन का नियमित सेवन करना फायदेमंद होता है क्योंकि यह पाचन तंत्र को मजबूत करने के साथ-साथ आंतों को शक्ति प्रदान करने और पेट की समस्त समस्याओं से छुटकारा दिलाने में भी मददगार होता है।

इसलिए जिन लोगों को पाचन संबंधी या कब्ज की समस्या है उन्हें बेसन का नियमित सेवन अवश्य करना चाहिए। इससे कब्ज दूर होने के साथ साथ इससे सम्बंधित होने वाली अन्य समस्याओं से भी बचा जा सकता है।

कैंसर रोग में बेसन के फायदे (Cancer besan benefits in hindi)

बेसन में पाया जाने वाला ब्यूटिरेट नामक मुख्य यौगिक कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है। तथा बेसन में तरल पदार्थ को अवशोषित करने की क्षमता होती है और यह ग्लूटन से मुक्त होता है।

यह एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता है और कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है। इसलिए कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी से बचाने में भी बेसन मददगार होता है।

स्किन के लिए बेसन के फायदे (Skin besan benefits in hindi)

बेसन शरीर के अंदरूनी भाग के लिए उपयोगी होने के साथ साथ इसका प्रयोग त्वचा के लिए किया जाना भी फायदेमंद माना जाता है। प्राचीन काल से ही खाने के साथ साथ बेसन को सौंदर्य प्रसाधनों की तरह उपयोग में लिया जाता रहा है। बेसन की उबटन को त्वचा और बालों के लिए बहुत लाभदायक माना गया है। इसलिए त्वचा सम्बंधी रोगों से बचने और खूबसूरती बढ़ाने के लिए बेसन का उपयोग करना फायदेमंद होता है।

अगर आप जानना चाहते हैं कि स्किन के लिए बेसन का उपयोग कैसे करें तो यह पढ़ें- चेहरे की सुंदरता बढ़ाने के घरेलू उपाय

अब तक हमने जाना बेसन क्या है इसके पोषक तत्व और बेसन खाने के फायदे (Best besan benefits in hindi )और अब जानते है इससे होने वाले नुकसान क्या है।

बेसन के नुकसान (Side effects of besan in hindi)

अगर बेसन का सेवन निश्चित अनुपात में किया जाए तो यह औषधि की तरह काम करता है। वहीं अगर इसे आवश्यकता से अधिक प्रयोग किया जाए तो यह नुकसानदायक भी हो सकता है। इसलिए बेसन का प्रयोग हमेशा उचित मात्रा में ही करना लाभदायक होता है। अधिक मात्रा में बेसन का उपयोग करने से होने वाले नुकसान है जैसे

  • इसमें फाइबर प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इसलिए अधिक मात्रा में इसका सेवन करना पेट के लिए नुकसानदायक हो सकता है क्योंकि इससे गैस, बदहजमी या दस्त जैसी समस्याएं उत्पन्न हो सकती है।
  • जिन लोगों को बेसन से एलर्जी या किडनी से संबंधित कोई रोग हो उन्हें इसका सेवन करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श अवश्य करना चाहिए।

FAQ

Q 1. क्या बेसन की रोटी खाने से वजन बढ़ता है?

Ans  बेसन के आटे से बनी रोटी सेहत के लिए बहुत लाभकारी होती है। क्योंकि बेसन फाइबर और प्रोटीन का बहुत अच्छा स्रोत होता है और प्रोटीन और फाइबर वजन कम करने में सहायक होते हैं। इसके अलावा बेसन से बनी रोटी हार्ट व डायबिटीज के रोगियों के लिए भी फायदेमंद होती है।

Q 2. बेसन के लड्डू खाने के क्या फायदे हैं?

Ans  बेसन के लड्डू का नियमित सेवन करने से शरीर का मेटाबॉलिज्म मजबूत होता है तथा लाल रक्त कोशिकाएं व हिमोग्लोबिन के उत्पादन में भी मदद मिलती है। इसमें पाया जाने वाला फाइबर ह्रदय रोग के खतरे को भी कम करता है तथा मधुमेह के रोगियों को शरीर में ऊर्जा प्राप्ति के लिए भी यह बहुत फायदेमंद होता है। इसके अलावा बेसन का सेवन नियमित करने से शरीर ताकतवर बनता है।

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में हमने जाना की बेसन क्या है, बेसन के फायदे (besan benefits in hindi) और नुकसान क्या है। बेसन के औषधीय गुण और बेसन का सेवन करने के स्वास्थ्य लाभ तथा बेसन का सेवन करने से किन किन रोगो में फायदा मिलता है और बेसन का सेवन कैसे किया जाता है। इस आर्टिकल Best besan benefits in hindi के बारे में आपके कोई सुझाव या सवाल हो तो comment बॉक्स में लिखें तथा पोस्ट को शेयर जरूर करें ताकि किसी जरूरतमंद की मदद हो सकें।

इन्हें भी पढ़ें

Share This Product

Leave a Comment