Benefits of Ashwagandha in hindi | अश्वगंधा के फायदे और उपयोग कैसे करें

अश्वगंध खाने के फायदे और नुकसान (Ashwagandha benefits and side effects in hindi)

अश्वगंधा आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति में प्रयोग किए जाने वाला एक महत्वपूर्ण औषधीय पौधा होता है। हेल्दी स्वास्थ्य के लिए अश्वगंधा बहुत फायदेमंद होता है। अश्वगंधा का प्रयोग वजन बढ़ाने बल, और वीर्य वर्धक तथा शारीरिक शक्ति और यौन शक्ति बढ़ाने में उपयोगी होता है। निरोगी हेल्थ के इस लेख में जानेंगे अश्वगंधा के फायदों (Benefits of Ashwagandha in hindi) के साथ साथ अश्वगंधा क्या है, अश्वगंधा का सेवन किन किन रोगों में किया जाता है आइए जानते हैं अश्वगंधा के फायदे और उपयोग कैसे करें  (Best Benefits of Ashwagandha in hindi)

Contents

अश्वगंधा की मांग इसके अधिक गुणकारी होने के कारण बाजार में बढ़ती ही जा रही है। अश्वगंधा की जड़ों में 0.13 से 0.31 प्रतिशत तक एल्केलाइड होते हैं जिसमें विटामिन महत्वपूर्ण है। इस के नियमित इस्तेमाल से कई तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं (Health benefits of Ashwagandha in hindi) को दूर किया जा सकता है।

इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व महिलाओं व पुरुषों दोनों के लिए लाभकारी होते हैं। अश्वगंध में एंटी ऑक्सीडेंट, लिवर टॉनिक, एंटी इन्फ्लेमेटरी, एंटीबैक्टीरियल के साथ-साथ और भी बहुत से पोषक तत्व पाए जाते हैं जो शरीर को हेल्दी रखने में उपयोगी होते हैं।

इसके अलावा अश्वगंध में एंटी स्ट्रेस गुण भी होते हैं जो तनाव को कम करने में मददगार है। अश्वगंध को घी या दूध के साथ मिलाकर सेवन करने से शरीर का वजन बढ़ाने में भी मदद मिलती है। यह पढ़ें ~  बढ़ाने के लिए डाइट प्लान

अश्वगंधा क्या है (What is Ashwagandha in hindi)

यह (अश्वगंध) एक आयुर्वेदिक औषधि है। भारत में अश्वगंधा या अश्वगंध जिसका वनस्पतिक नाम वीथानीयां सोमनीफेरा होता है। इसके पूरे पौधे में औषधीय गुण पाए जाते है। सभी प्राचीन ग्रन्थों में अश्वगंधा के महत्त्व को दर्शाया गया है। इसकी ताजी पत्तियों तथा जड़ों में घोड़े के मूत्र की गंध आने के कारण ही इसका नाम अश्वगंधा पड़ा है।

आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति में इसकी मांग इसके अधिक गुणकारी और इसमें पाये जाने वाले औषधीय गुणों के कारण दिनों दिन बढ़ती ही जा रही है। अश्वगंध का पौधा ठंडे प्रदेशों को छोड़कर अन्य सभी भागों में बहुतायत पाया जाता है। वैसे तो इसका पूरा पौधा औषधीय गुणों से भरपूर होता है लेकिन ज्यादातर प्रयोग इसकी जड़ का ही किया जाता है।

अश्वगंधा के प्रकार (Types of ashwagandha in hindi)

वीथानीयां सोमनीफेरा (अश्वगंधा) की पूरे विश्व में दस तथा भारत में दो प्रजातियां पाई जाती है। जैसे

छोटी असगंध 

इसका पौधा छोटा होने के कारण इसे छोटी असगंध कहा जाता है। लेकिन इसकी जड़ बड़ी होती है। यह मुख्यत है राजस्थान के नागौर में अधिक पाया जाता है इसलिए इसको नागौरी असगंध भी कहा जाता है।

बड़ी असगंध 

इसका पौधा बड़ा होता है लेकिन इसकी जड़ें छोटी और पतली होती है। यह मुख्यतः बाग, बगीचों, खेतों और पहाड़ी स्थानों में अधिक पाया जाता है।

अश्वगंधा खाने के क्या फायदे है (Health Benefits of Ashwagandha in hindi)

शारीरिक कमजोरी में अश्वगंधा के फायदे ( Benefits of Ashwagandha in hindi

शरीर में आई हुई किसी भी प्रकार की कमजोरी को दूर करने में अश्वगंधा कारगर औषधि माना जाता है इसका नियमित सेवन करने से शरीर बलशाली और हष्ट पुष्ट हो जाता है। इसके लिए अश्वगंधा चूर्ण में बराबर मात्रा में मिश्री मिलाकर रात को सोने से पहले गुनगुने दूध के साथ नियमित सेवन करने से शरीर में बल, वीर्य और ताकत में वृद्धि होती है।

इसके अलावा अश्वगंधा की जड़ और चिरायता को बराबर मात्रा में लेकर अच्छी तरह से कुट कर मिला लें। इस चूर्ण को 2 से 4 ग्राम की मात्रा सुबह-शाम नियमित दूध के साथ सेवन करने से शारीरिक दुर्बलता दूर होती है और शरीर बलशाली बनता है।

मधुमेह में अश्वगंधा के फायदे (Benefits of Ashwagandha in hindi)

आयुर्वेद के जानकार शुगर के उपचार के लिए अश्वगंधा का सेवन करने की सलाह देते हैं। डायबिटीज के उपचार में अश्वगंधा का उपयोग करने से काफी लाभ मिलता है। इसका नियमित सेवन करने से ब्लड शुगर के स्तर में कमी होती है।

इसके अलावा इसका सेवन करने से इंसुलिन की मात्रा शरीर में बढ़ती है और मांसपेशियों में इन्सुलिन सेंसटिविटी बढ़ती है। इसलिए मधुमेह से पीड़ित व्यक्ति को अश्वगंधा का नियमित सेवन करना लाभकारी होता है। यह पढ़ें ~ मधुमेह के लिए आहार चार्ट

मेटाबोलिज्म बढ़ाने में अश्वगंधा के फायदे (Benefits of Ashwagandha in hindi)

अश्वगंधा एंटीऑक्सीडेंट का एक बहुत ही अच्छा स्रोत होता है और एंटीऑक्सीडेंट चयापचय की प्रक्रिया के दौरान उत्पन्न मुक्त कण को साफ एवं निष्क्रिय करने में प्रभावी होता है। इसलिए कहा जाता है की मेटाबॉलिज्म को बेहतर करने के लिए अश्वगंधा का नियमित सेवन करना लाभदायक होता है। यह शरीर मे मेटाबॉलिज्म के बेहतर बनाने के साथ साथ इम्यून सिस्टम को भी मजबूत बनाने में सहायक होता है।

त्वचा के लिए अश्वगंधा के फायदे (Ashwagandha benefits in hindi)

त्वचा में होने वाली रूखापन और झुर्रियों को दूर करने में अश्वगंधा बहुत ही कारगर औषधि होता है। यह त्वचा को युवा और मुलायम रखने के लिए कोलेजन उत्पादन को बढ़ावा देता है और प्राकृतिक सुरक्षा तेलों की वृद्धि में मददगार होता है।

अश्वगंधा में उच्च स्तर का एंटी ऑक्सीडेंट होता है जो झुर्रियों, दाग, काले धब्बे और उम्र बढ़ने के संकेतों से लड़ने में सहायक होता है। इसके साथ ही अश्वगंधा त्वचा कैंसर से भी बचाने में लाभकारी होता है। यह पढ़ें ~ त्वचा रोग का घरेलू इलाज

तनाव में अश्वगंधा के फायदे (Ashwagandha benefits in hindi)

आयुर्वेद औषधि प्रणाली में अश्वगंधा को चमत्कारिक एवं तनाव रोधक जड़ी-बूटी के रूप में जाना जाता है। इसके कारण से ही तनाव से संबंधित लक्षण और चिंता विकारो के इलाज के रूप में इस्तेमाल होने वाली जड़ी बूटियों में अश्वगंधा का नाम शामिल है।

रिसर्च के अनुसार अश्वगंधा के इस्तेमाल से तनाव को 70 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है। यह शरीर और मानसिक संतुलन को ठीक रखने में लाभकारी होता है जिससे अच्छी नींद आती है और दिमाग व मूड बेहतर रहता है

यौन शक्ति बढ़ाने में अश्वगंधा के फायदे (Ashwagandha benefits for men in hindi)

अश्वगंधा के सेवन से घोड़े जैसी ताकत और यौन शक्ति की प्राप्ति होती है। इसके सेवन से मानसिक और शारीरिक ताकत मजबूत होती है। यह शरीर में सेक्स की चाहत भी बढ़ाता है। इसके नियमित सेवन से पुरुष अधिक समय अवधि तक सेक्स क्रिया में लिप्त रहने के साथ साथ शीघ्रपतन या स्खलन पर भी नियंत्रण पा सकता है।

अश्वगंधा के नियमित सेवन से शरीर में नाइट्रिक ऑक्साइड का निर्माण होता है जिसके कारण पुरुषों में यौन इच्छा में बढ़ोतरी होती है।

इसलिए किसी भी तरह की यौन समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए अश्वगंधा का सेवन कारगर उपाय होता है। इसके लिए रात को सोने से पहले अश्वगंधा की जड़ के पाउडर में मिश्री मिलाकर दूध के साथ नियमित सेवन करने लाभ मिलता है।

अश्वगंध खाने के अन्य उपयोग (Other Benefits of Ashwagandha in hindi )

इस की जड़ों का उपयोग पाउडर बनाकर कमजोरी, दमा, कफ संबंधी बीमारी, अनिद्रा, हृदय रोग एवं दुर्घटना में बने घाव के उपचार में किया जाता है। इसकी जड़ों के पाउडर को शहद एवं घी में मिलाकर कमजोरी के लिए प्रारंभिक उपचार किया जाता है।

अश्वगंधा जड़ के चूर्ण का सेवन करने से शरीर में ओज तथा स्फूर्ति आती है तथा रक्त में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करने के लिए भी यह कारगर औषधि माना जाता है। कमर एवं घुटनों के दर्द के उपचार के लिए अश्वगंधा के पाउडर को शक्कर या कैंडी एवं घी के साथ मिलाकर सेवन किया जा सकता है।

अश्वगंधा के अन्य फायदे (Ashwagandha health benefits in hindi)

इसका सेवन करने के और भी बहुत से स्वास्थ्य लाभ और Benefits of Ashwagandha in hindi होते है जैसे

  • इसमें एंटीट्यूमर एवं एंटीबायोटिक गुण भरपूर मात्रा में पाया जाता है।
  • अश्वगंधा के पौधे की जड़े शक्तिवर्धक, शुक्राणु वर्धक, बलवर्धक, धातु वर्धक, वीर्यवर्धक, एवं पौष्टिक होती है।
  • यह पुरुषों में प्रजनन क्षमता और टेस्टोस्टेरोन को बढ़ाने में लाभदायक माना जाता है और यह मस्तिष्क की कार्य क्षमता को भी बढ़ाता है।
  • यह सर्दी जुकाम जैसी आम बीमारियों से लड़ने के लिए शरीर को शक्ति प्रदान करता है तथा शरीर की इम्यूनिटी पावर को बढ़ाता है।
  • अश्वगंधा का नियमित सेवन वाइट ब्लड सेल्स और रेड ब्लड सेल्स दोनों को बढ़ाने का काम करता है जो कई गंभीर शारीरिक समस्याओं में लाभदायक होती है। इसके अलावा अश्वगंधा ब्लड में हिमोग्लोबिन के स्तर में भी बढ़ोतरी करता है जिससे एनीमिया जैसी समस्याओं से छुटकारा पाने में भी मदद मिलती है।
  • यह मानसिक तनाव, अनिद्रा जैसी गंभीर समस्याओं से राहत दिलाने में लाभदायक होता है।
  • यह शरीर को शक्ति प्रदान करने के साथ-साथ बलशाली शक्तिशाली और हष्ट पुष्ट बनाने में सहायक होता है।
  • अश्वगंधा की जड़ों के पाउडर का प्रयोग खांसी एवं अस्थमा को दूर करने के लिए किया जाता है इसके लिए यह बहुत ही गुणकारी औषधि होती है।
  • तंत्रिका तंत्र संबंधी कमजोरी को दूर करने के लिए अश्वगंधा का प्रयोग किया जाता है।
  • गठिया एवं जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए भी अश्वगंधा की जड़ों के चूर्ण का प्रयोग किया जाता है।
  • नपुसंकता में अश्वगंधा के पौधों की जड़ों का एक चम्मच पाउडर दूध के साथ नियमित सेवन करने से बहुत लाभ मिलता है।
  • इस की जड़ों को त्वचा संबंधी बीमारियों के निदान हेतु प्रयोग में लाया जाता है। यह पढ़ें ~ धातु रोग का रामबाण

अश्वगंधा के नुकसान (Ashwagandha side effects in hindi)

अश्वगंधा खाने के फायदों (Benefits of Ashwagandha in hindi ) के साथ साथ इसके कुछ नुकसान भी होते है जैसे

  • गर्म प्रवृति के लोगो को अश्वगंधा का प्रयोग करने से नुकसान भी हो सकता है।
  • गर्भवती महिलाओ को गर्भावस्था के दौरान अश्वगंध का सेवन करने से बचना चाहिए क्योंकि इसके सेवन से गर्भपात का खतरा हो सकता है।
  • उच्च रक्त चाप की समस्या से पीड़ित लोगो को इसका सेवन करने से पहले विशेष्ज्ञ से परामर्श अवश्य कर लेना चाहिए।

FAQ

Q 1. अश्वगंधा कितने दिन तक खाना चाहिए?

Ans  इसका दो से 3 ग्राम की मात्रा में नियमित सेवन शीतकाल के समय 4 माह तक करने से शरीर में पोषक तत्वों की पूर्ति होती है और यह शरीर को अनेक रोगों से लड़ने के लिए शक्ति प्रदान करता है तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी मजबूत करता है।

Q 2. अश्वगंधा लेते समय क्या परहेज करना चाहिए?

Ans  वैसे तो अश्वगंधा एक औषधि है लेकिन इसका सेवन करने में कुछ लोगों को सावधानियां रखने की आवश्यकता होती है जैसे गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन करने से बचना चाहिए क्योंकि गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन करने से गर्भपात हो सकता है। इसके अलावा रक्तचाप के मरीजों को भी अश्वगंधा का सेवन करने से पहले विशेषज्ञ से परामर्श अवश्य कर लेना चाहिए।

Q 3. अश्वगंधा का प्रयोग कैसे करें?

Ans  इसका सेवन करने के लिए इसके चूर्ण को पानी, शहद या फिर घी में मिलाकर सेवन किया जा सकता है। इसके अलावा बाजार में अश्वगंधा कैप्सूल, अश्वगंधा का रस, अश्वगंधा की चाय आदि प्रोडक्ट आसानी से मिल  जाते हैं। रात को सोने से पहले दूध के साथ अश्वगंधा चूर्ण का सेवन करना फायदेमंद माना जाता है। लेकिन इसका सेवन हमेशा खाना खाने के बाद करना चाहिए।

Q 4. अश्वगंधा चूर्ण से वजन कैसे बढ़ाएं?

Ans शरीर का वजन बढ़ाने के लिए एक चम्मच अश्वगंधा पाउडर नियमित सुबह-शाम एक गिलास दूध के साथ सेवन करने से लाभ होता है। इसके साथ ही इसका सेवन करने के दौरान शारीरिक एक्टिविटीज आदि करने से अधिक लाभ मिलता है।

इस आर्टिकल अश्वगंधा खाने के फायदे और नुकसान (Health Benefits of Ashwagandha in hindi ) के बारे में आपके कोई सवाल या सुझाव हो तो Comment बॉक्स में लिखें और पोस्ट को शेयर जरूर करें ताकि किसी जरूरतमंद को इसका फायदा मिल सकें।

इन्हें भी पढ़ें-

 

Share This Product

Leave a Comment

हृदय रोग से बचने के घरेलु उपाय | Heart Disease Treatment in hindi हींग खाने के फायदे Hing Benefits स्टैमिना बढ़ाने के लिए इन फूड्स का करें उपयोग