निरोगी रहना है तो जरूर खाएं बथुआ जानिए Bathua के 12 अद्भुत फायदे

बथुआ खाने के फायदे नुकसान और उपयोग कैसे करें Bathua ke fayde nuksan aur upyog

नमस्कार दोस्तों एक बार फिर से आपका स्वागत है आज फिर एक नई जानकारी नए पौधे को लेकर आज हम जानेंगे बथुआ खाने से होने वाले फायदे (Bathua khane ke fayde) और नुकसान क्या है तथा बथुए का इस्तेमाल कैसे किया जाता है और Bathua किन किन रोगों से बचाने में लाभकारी होता है। जानिए Bathua ke fayde aur nuksan तथा इन बीमारियों से बचाकर निरोगी रखेगा बथुआ जानें इसके 12 फायदे

Bathua ke fayde / बथुआ के स्वास्थ्य लाभ

बथुआ स्वास्थ्य के लिए बहुत गुणकारी होता है अगर उचित मात्रा में व सही तरीके से बथुए का सेवन किया जाता है तो Bathua शरीर को स्वस्थ व निरोगी रखने के लिए बहुत ही उत्तम औषधि माना जाता है।

बथुआ एक ऐसा साग (Bathua saag) है जिसे ग्रामीण भारत में बड़े चाव से साग सब्जी आदि के रूप में खाया जाता है। बथुआ से बने पराठे भी दही के साथ शौक से खाए जाते हैं। कुछ लोग इसे सुखाकर पाउडर (Bathua powder) बनाकर भी इसका इस्तेमाल अलग अलग सब्जियों में करते हैं।

प्राचीन समय में कच्चे मकानों में दीवारों व फर्श पर रंग करने के लिए बथुए को गोबर व मिट्टी में मिला कर लेप किया जाता था आज भी कुछ जगह पर ऐसा किया जाता है। बालों में रूसी की समस्या से छुटकारा पाने के लिए बथुए के पानी से सिर को धोया जाता है।

बथुआ क्या है : What is bathua

बाथू यानी बथुआ अधिकतर खेतों में खरपतवार के रूप में अपने आप पनपने वाली एक वनस्पति है। यह स्वाद में थोड़ा कड़वाहट लिए होता है लेकिन यह हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होता है। बथुआ को अंग्रेजी में Lambs Quarters कहा जाता है। तथा इसका वैज्ञानिक नाम Chenopodium album होता है। इसे White goosefoot भी कहा जाता है।

Bathua का सेवन प्राचीन काल से ही स्वास्थ्य के लिए विभिन्न तरीकों से किया जाता है। यह केवल साग सब्जी ही नहीं है बल्कि इसका इस्तेमाल करने से शरीर स्वस्थ और निरोगी भी रहता है तथा किसी भी प्रकार की बीमारी शरीर मे प्रवेश नहीं कर पाती है। बथुआ के नियमित इस्तेमाल से अनेक प्रकार के रोगों का उपचार किया जा सकता है।

बथुआ में पोषक तत्व : Bathua nutrition in hindi

यह बथुआ ठंडी तासीर का होता है। बथुए में अनेक औषधीय गुण व पोषक तत्व मौजूद होते हैं। बथुआ में आयरन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, मैगनीज, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट,  फॉस्फोरस, पोटेशियम, सोडियम, जिंक, विटामिंस, मिनरल्स आदि अनेक पोषक तत्व पाए जाते हैं। इसमें विटामिन B1, B2, B3, B5, B6, B9 के साथ-साथ विटामिन सी भरपूर मात्रा में होता है।

बथुआ शरीर के इम्यून सिस्टम को काफी मजबूत करता है। बथुआ में मौजूद इन्हीं पोषक तत्व व औषधिय गुणों के कारण इसका सेवन अनेक रोगों से बचने के लिए भी किया जाता है। भारत के ग्रामीण इलाकों में पेट दर्द, गैस, एसिडिटी, स्किन प्रॉब्लम जैसी अनेक समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए बथुए की चटनी (Bathua chatni) बनाकर छाछ में मिलाकर सेंधा नमक मिलाकर पिया जाता है।

Contents

दही या छाछ के साथ मिलाने से यह सबसे अधिक प्रोटीन युक्त (Protein foods) और पौष्टिक हो जाता है। महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान जितने भी विटामिन्स और पोषक तत्वों की जरूरत होती है उन सबकी पूर्ति अकेला बथुआ ही कर सकता है। इसलिए बथुआ एक सम्पूर्ण आहार और सभी के लिए अमृत समान होता है।

बथुआ के फायदे / Bathua khane ke fayde

अगर हम Bathua ke fayde या इसके स्वास्थ्य लाभ की बात करें तो इसके अनगिनत फायदे होते हैं इसका सेवन करने से शरीर को स्वस्थ रखने व रोगों से बचाए रखने में काफी मदद मिलती है। आगे हम बथुआ खाने के कुछ फायदों के बारे में विस्तार से जानेंगे इसलिए लेख को अंत तक जरूर पढ़ें –

  • रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत करता है
  • पेट के रोगों से छुटकारा दिलाता है
  • दांत के मसूड़े मजबूत करता है
  • पुरुषों की शारीरिक कमजोरी दूर करता है
  • बालों के लिए फायदेमंद होता है
  • जोड़ों का दर्द दूर करता है
  • त्वचा के रोगों से छुटकारा दिलाता है
  • महिलाओं में अनियंत्रित मासिक धर्म की समस्या में फायदेमंद होता है

इम्यूनिटी मजबूत करने में बथुआ के फायदे

शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने से बॉडी में अनेक रोगों का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए इम्यूनिटी मजबूत रखना जरूरी है और इसके लिए बथुए का साग (Bathua saag) और इसकी पत्तियों (Bathua leaves) को दही या छाछ में मिलाकर नियमित सेवन करने से इम्यून सिस्टम बहुत जल्द मजबूत होता है।

इसके अलावा बथुए के पंचाग का पाउडर बनाकर भी सेवन करना इम्युनिटी बढ़ाने में काफी मददगार होता है।

पेट के रोगों में बथुआ के फायदे

पेट में होने वाले किसी भी प्रकार के दर्द से तुरंत राहत राहत पाने के लिए बथुआ बहुत कारगर औषधि माना जाता है। पेट दर्द, कब्ज, लिवर संबंधी समस्याएं, अपच,  बदहजमी, गैस एसिडिटी आदि से छुटकारा पाने के लिए बथुए की सब्जी खाना काफी फायदेमंद होता है। बवासीर की समस्या में बथुआ को उबालकर काढ़ा बनाकर छानकर पीने और इससे बवासीर के मस्सों को धोने से इस रोग में राहत मिलती है।

बथुआ के पंचांग को पानी में उबालकर उसमें सेंधा नमक और काली मिर्च मिलाकर पीने से पेट संबंधी तमाम तरह की समस्याएं दूर होने के साथ-साथ पेट में होने वाले कीड़ों की समस्या से भी छुटकारा मिलता है।

गुर्दे की पथरी में बथुआ का सेवन

किडनी में होने वाली पथरी की समस्या से छुटकारा दिलाने में बथुआ बहुत फायदेमंद माना जाता है। इसके साग का नियमित सेवन करने से गुर्दे में पथरी की समस्या नहीं होती और अगर है तो पथरी धीरे धीरे निकलना शुरू हो जाती है। Bathua लिवर गुर्दे को साफ रखने और विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में भी मददगार होता है।

पथरी की समस्या से छुटकारा पाने के लिए बथुए का ताजा रस निकालकर नियमित सेवन करना, इसका साग खाना तथा पंचांग का काढ़ा बनाकर पीना फायदेमंद होता है। इसके इस्तेमाल यूरिन भी खुलकर आता है।

अमाशय के लिए बथुआ का उपयोग

अमाशय को मजबूत बनाने में बथुआ गुणकारी होता है गर्मियों के मौसम में अक्सर होने वाली समस्या यकृत बढ़ने को भी बथुआ ठीक करने के गुण रखता है।

जोडों व मांसपेशियों के दर्द में बथुए के फायदे

किसानों को खेतों में काम करने के दौरान अक्सर मोच, झटका लगना या छोटी मोटी चोट लगती रहती है। और इन से राहत दिलाने में बथुआ काफी कारगर औषधि माना जाता है। इसके लिए बथुआ के पौधे से पेस्ट बनाकर लेप लगाकर ऊपर से गर्म कपड़ा बांधने से दर्द से छुटकारा मिलता है तथा मांसपेशियों में खिंचाव, सूजन, दर्द आदि समस्याएं भी दूर होती है।

इसके अलावा इस पौधे को पानी में उबालकर काढ़ा बनाकर छानकर पीने और  बचे हुए पेस्ट का प्रयोग दर्द वाली जगह पर सिकाई करने से किसी प्रकार का दर्द गायब हो जाता है। किसानों के लिए दर्द व मांसपेशियों में खिंचाव का प्राथमिक उपचार का यह सबसे बेस्ट उपाय माना जाता है।

दांतों व मसूड़ों के रोगों में बथुआ के फायदे

दांतों व मसूड़ों की मजबूती व दर्द की समस्या से राहत दिलाने में बथुआ की पत्तियों का सेवन बहुत लाभकारी होता है। ग्रामीण इलाकों में आज भी दांत दर्द से छुटकारा पाने व दांतो को साफ करने के लिए बथुआ के बीजों से बने चूर्ण से दांतों पर मंजन किया जाता है यानी इसे दांतों पे रगड़ा जाता है।’

इससे दांतों का दर्द तो दूर होता ही है दांत मजबूत व मसूड़ों में खून आने, सूजन जैसी समस्याओं से भी छुटकारा मिलता है। मौखिक स्वच्छता या मुंह की बदबू दूर करने के लिए बथुआ की ताजी पत्तियों को चबाना बहुत लाभदायक होता है।

स्किन प्रॉब्लम में बथुआ के फायदे

बथुआ का साग खाने से त्वचा से संबंधित समस्याएं दूर होकर त्वचा में निखार यानी ग्लो भी आता है। इसके अलावा बथुआ खाने में फायदेमंद होने के साथ-साथ इसे त्वचा पर लगाने के लिए भी प्रयोग किया जा सकता है।

बथुआ का पेस्ट बनाकर स्किन पर लेप लगाने या बथुआ को पानी में उबालकर उस पानी से त्वचा को धोने से स्किन संबंधी समस्याएं जैसे दाग धब्बे, पिम्पल्स, ब्लैकहेड्स, सफेद दाग, लाल रेसेज, खुजली जैसी अनेक स्किन संबंधी समस्याएं दूर होती है।

बालों के लिए बथुआ : Benefits of bathua for hair

बालों संबंधी तमाम तरह की समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए भी बथुआ फायदेमंद होता है। बालों में रूसी, जुएं, बाल झड़ने आदि समस्याओं से राहत पाने के लिए बथुए को पानी में उबालकर काढ़ा बनाकर नींबू का रस मिलाकर नियमित इस पानी से सिर धोने से बालों संबंधी समस्याएं जैसे रूसी, डैंड्रफ, बाल झड़ने, गंजापन, जुओं आदि समस्याओं से छुटकारा मिलता है।

अनियमित मासिक चक्र में बथुआ का प्रयोग

आज के समय अनुचित खानपान व अनियंत्रित जीवन शैली के कारण महिलाओं में अनियंत्रित पीरियड की समस्या एक आम समस्या बनती जा रही है। इसलिए बथुआ इस समस्या से राहत दिलाने में काफी मददगार होता है। क्योंकि प्राचीन समय से ही ग्रामीण इलाकों में इस समस्या से राहत पाने के लिए बथुए का प्रयोग किया जाता है।

इसके लिए बथुआ के बीच और सौंठ को दरदरा कूट लें तथा एक से दो गिलास पानी में दो चम्मच यह मिश्रण मिलाकर पानी को धीमी आंच पर उबालें, इसे तब तक उबालते रहे जब तक पानी आधा ना बच जाए। उसके बाद इस पानी को छानकर दिन में दो बार सेवन करने से अनियमित पीरियड की समस्या से छुटकारा मिलता है।

पुरुषों के लिए बथुआ के फायदे

बथुआ में भरपूर मात्रा में जिंक मौजूद होता है इसलिए इसे शुक्राणु वर्धक माना गया है। शरीर में होने वाले किसी भी प्रकार की शारीरिक कमजोरी को दूर करने के लिए बथुए का इस्तेमाल करना लाभदायक होता है। यह यौन शक्ति बढ़ाने में भी काफी मददगार होता है तथा बथुए के नियमित सेवन से यौन सम्बंधी रोगों से छुटकारा दिलाने में भी लाभदायक होता है।

Bathua khane ke fayde

बथुए के अन्य स्वास्थ्य लाभ : Benefits of Bathua

यह शरीर के लिए सम्पूर्ण आहार होता है Bathua के बताये गए फायदों के आलावा और भी बहुत से स्वास्थ्य लाभ होते है।

1.यूरिन संबंधी समस्याएं जैसे यूरिन में जलन, यूरिन इन्फेक्शन, दर्द आदि से छुटकारा पाने के लिए बथुए के रस में नमक, जीरा, मिश्री और नींबू का रस मिलाकर सेवन करने से फायदा मिलता है।

2. मलेरिया, टाइफाइड बुखार या सामान्य बुखार में बथुए का सेवन लाभकारी होता है इस का रस निकालकर पीने से तुरंत बुखार उतर जाता है।

3. बथुए की ताजी पतियों को चबाने से मुंह के रोगों से छुटकारा मिलता है।

4. किसी भी प्रकार की खांसी की समस्या से छुटकारा पाने के लिए बथुए का सेवन लाभकारी आता है।

5. बथुए की जड़ के 1 से 2 ग्राम चूर्ण को पानी में उबालकर ठंडा होने के बाद पीने से ल्यूकोरिया रोग में फायदा होता है।

बथुआ का सेवन कैसे करें : Bathua recipe kya hai

बथुए का सेवन भिन्न-भिन्न तरीकों से किया जा सकता है। इसका साग बना कर या इसकी सब्जी बना कर तो सेवन किया ही जाता है साथ ही इस की चटनी, बथुए का रस, इसके पंचाग का काढ़ा, रायता, Bathua seeds इसको सुखाकर पाउडर बनाकर आदि तरीकों से भी बथुए का इस्तेमाल किया जा सकता है।

त्वचा पर फोड़े फुंसी या स्किन संबंधी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए इसका पेस्ट बनाकर लेप लगाने या इसको पानी में उबालकर उस पानी से त्वचा को धोने से काफी लाभ मिलता है।

बथुआ के नुकसान क्या है : Bathua ke nuksan

जिस चीज के जितने अधिक फायदे होते हैं उसके कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। बथुआ का सेवन उचित मात्रा में करता ही स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। अगर इसका सेवन अधिक मात्रा में या गलत तरीकों से किया जाए तो इसका स्वास्थ्य पर कुछ विपरीत प्रभाव पर पड़ता है।

कुछ लोगों में बथुए के सेवन से एलर्जी की समस्या हो सकती है तो ऐसे लोगों को इसका सेवन करने से पहले एक्सपर्ट से सलाह जरूर लेनी चाहिए। गर्भवती महिलाओं को बथुआ का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे गर्भपात होने का खतरा बना रहता है।

बथुए में ऑक्सीलेजिक एसिड पाया जाता है इसलिए इसका अधिक मात्रा में सेवन करने कब्ज, डायरिया, दस्त, पेट दर्द जैसी समस्याएं या कैल्शियम की कमी जैसी समस्याएं होने का खतरा बना रहता है। बथुआ ठंडी तासीर का होने व इसमें प्रजनन रोधी गुण होने के कारण अधिक मात्रा में बथुआ का सेवन करने से प्रजनन क्षमता प्रभावित हो सकती है।

FAQ

Q 1. बथुआ की तासीर क्या है?

Ans  बथुआ की तासीर ठंडी होती है सर्दियों के मौसम में होने वाला बथुआ पाचन शक्ति बढ़ाने, गैस एसिडिटी से छुटकारा दिलाने के साथ साथ अमाशय को मजबूती प्रदान करता है। निरोगी शरीर के लिए बथुआ बहुत ही गुणकारी होता है।

Q 2. कच्चा बथुआ खाने से क्या होता है?

Ans  बथुए की हरी-भरी ताजी पत्तियां चबाने से पायरिया, कैविटी, दांतो से संबंधित समस्याएं तथा मुँह की बदबू से छुटकारा मिलता है। कब्ज की समस्या से छुटकारा पाने के लिए कच्चे बथुए का रस निकालकर पीने से फायदा होता है कच्चा बथुआ (Row bathua) भूख भी बढ़ाता है।

निष्कर्ष

आज के इस लेख में हमने जाना बथुआ क्या है बथुए में पोषक तत्व तथा Bathua ke fayde यानि बथुआ खाने के फायदे और नुकसान कौन-कौन से हैं, साथ ही बथुआ का सेवन करने के तरीकों के बारे में भी हमने इस लेख में जाना। दोस्तों इस लेख के बारे में आपके कोई भी सुझाव या सवाल हो तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में लिख सकते हैं।

दोस्तों हम उम्मीद करते हैं कि आपको यह लेख बथुआ खाने के फायदे और नुकसान (Bathua khane ke fayde) जरूर पसंद आया होगा अगर यह लेख आपको अच्छा लगा हो तो कमेंट करके जरूर बताएं तथा इसको अपने परिवार के लोगों व दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

-: लेख को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद :-

इन्हें भी पढ़े –

Share This Product

Leave a Comment