एलोवेरा के फायदे और नुकसान | Aloe Vera ke fayde aur nuksan

घृतकुमारी के फायदे (Aloe Vera Benefits and side effects in hindi)

आयुर्वेद में एलोवेरा को घृतकुमारी (ग्वारपाठा) के नाम से जाना जाता है दुनिया में इस औषधि Aloe vera को संजीवनी भी कहा जाता है। निरोगी हेल्थ के इस आर्टिकल में एलोवेरा के फायदे और नुकसान (Aloe Vera ke fayde aur nuksan) व एलोवेरा के बारे में विस्तार से जानते हैं कि एलोवेरा क्या है यह कैसे सेवन किया जाए एलोवेरा के स्वास्थ्य लाभ (Benefits of aloe vera) और एलोवेरा के औषधीय गुण क्या होते है आइए जानते हैं एलोवेरा के फायदे और नुकसान (Aloe Vera ke fayde aur nuksan kya hai)

एलोवेरा ज्यूस के फायदे (Aloe vera juice ke fayde)

घृतकुमारी बहुत ही फायदेमंद औषधि होती है इसमें कई प्रकार के प्रोटीन और विटामिन पाए जाते हैं जो शरीर को स्वस्थ और निरोगी रखने में उपयोगी होते हैं इस के ज्यूस का स्वाद थोड़ा कड़वा होता है लेकिन आजकल मार्केट में इसका ज्यूस कई फ्लेवर में मिलता है जिससे आप आसानी से इसे स्वाद के अनुसार सेवन कर सकते हैं।

एलोवेरा की विभिन्न प्रजातियां होती है परंतु इनमें से कुछ ही मानव शरीर के लिए उपयोगी हैं जिनमें से एलोबार्बाडेन्सीस नाम की प्रजाति मुख्य होती है।

एलोवेरा क्या है (What is Aloe Vera in hindi)

घृतकुमारी (एलोवेरा) एक धरती पर उगने वाला औषधीय पौधा होता है इसके कांटेदार एक से डेढ़ फुट लंबी पत्तियां होती है इन पत्तियों में चमकदार गुदा (जैल) होता है इससे हल्की गंध आती है यह स्वाद में कड़वा होता है। इसके पत्तों को काटने पर पीले रंग का द्रव्य निकलता है जिसे कुमारी सार कहते हैं। इसकी जैल का भी प्रयोग किया जाता है और इससे ज्यूस भी निकल कर प्रयोग में लाया जाता है। एलोवेरा में अट्ठारह प्रकार की धातुएं, 15 एमिनो एसिड और 12 विटामिन पाए जाते हैं।

Contents

इसकी तासीर गर्म होती है। यह खाने में बहुत ही पौष्टिक होता है। इसे त्वचा पर लगाना भी उतना ही लाभदायक होता है। इसकी कांटेदार पत्तियों को छीलकर या काटकर रस निकाला जाता है। सुबह खाली पेट एलोवेरा का सेवन करने से दिनभर शरीर में शक्ति व चुस्ती, स्फूर्ति बनी रहती है।

एलोवेरा के औषधीय गुण (Aloe Vera ke fayde aur nuksan and nutrition)

यह देखने में जरूर अजीब तरह का पौधा  होता है लेकिन इसमें औषधीय गुण बहुत ज्यादा पाए जाते हैं यह बवासीर, डायबिटीज, गर्भाशय के रोग, पेट की खराबी, जोड़ों का दर्द, त्वचा रोग, मुहासे, त्वचा का रूखापन, झुर्रियां, धूप में झुलसी त्वचा, चेहरे के दाग धब्बे, आंखों के नीचे काले घेरे, फटी एड़िया आदि के लिए एलोवेरा रामबाण औषधि की तरह काम करता है। इसके साथ ही यह शरीर में खून की कमी को दूर करता है तथा शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है। और पढ़ें ~ रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय

घृतकुमारी (एलोवेरा) के जूस में एंटीऑक्सीडेंट गुण भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो शरीर में होने वाली अधिकांश बीमारियों से राहत दिलाने में उपयोगी होता है एलोवेरा का ज्यूस नियमित पीने से शरीर के लिए जरूरी पोषक तत्वों की पूर्ति होती है। एलोवेरा का सेवन करने के फायदे के साथ साथ इसके नुकसान भी होते है जानते है Aloe Vera ke fayde aur nuksan

एलोवेरा का सेवन किन किन रोगो में किया जाता है (Aloe Vera Benefits in hindi)

एलोवेरा के फायदे डायबिटीज में

मधुमेह को नियंत्रित करने में एलोवेरा के औषधीय गुण बहुत ही फायदेमंद साबित होते हैं। 250 से 500 मिलीग्राम गर्म पानी में 5 ग्राम एलोवेरा का गुदा मिलाकर नियमित सेवन करने से मधुमेह में लाभ मिलता है। इसके अलावा एलोवेरा ज्यूस में तुलसी व नींबू का रस मिलाकर नियमित सेवन करने से शुगर की बीमारी में राहत मिलती है। और पढ़ें ~ मधुमेह के लिए आहार चार्ट

एलोवेरा के फायदे वजन घटाने में

शरीर का वजन नियंत्रित रखने में एलोवेरा बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वजन घटाने के लिए सुबह खाली पेट एलोवेरा ज्यूस पीना मददगार होता है। सुबह खाली पेट एलोवेरा ज्यूस पीने से शरीर से खराब ट्रांसफैट बाहर निकलकर शरीर का फैट मेटाबॉलिज्म बढ़ता है। इन्ही कारणों से शरीर का वजन नियंत्रित रखने में सहायता मिलती है। और पढ़ें ~ वजन घटाने का डाइट प्लान

एलोवेरा के फायदे लिवर के लिए

लिवर को स्वस्थ रखने और लिवर से संबंधित बीमारियों से छुटकारा दिलाने में एलोवेरा बहुत ही मददगार होता है। इसके लिए एलोवेरा के पत्तों का रस और शहद मिलाकर इसे चीनी मिट्टी के बर्तन में रखें और इस बर्तन का मुंह बंद कर 7 दिन तक धूप में रख दें, 7 दिन बाद इसे छानकर इसका सुबह-शाम नियमित सेवन करने से लिवर से सम्बंधित रोगों में लाभ मिलता है और इससे लिवर व पेट साफ भी होता है। उचित मात्रा में इसका सेवन करने से मल एवं वात से जुड़ी समस्याएं ठीक होती है और लिवर स्वस्थ हो जाता है।

एलोवेरा के फायदे गठिया के लिए

उम्र बढ़ने के साथ ही शरीर में हड्डियां कमजोर होना शुरू हो जाती है हड्डियों की कमजोरी के कारण जोड़ों में दर्द या गठिया की समस्या भी हो सकती है। एलोवेरा जोड़ों के दर्द में काफी फायदेमंद होता है एक अध्ययन के अनुसार एलोवेरा ओस्टियोआर्थराइटिस के इलाज में बेहद ही कारगर औषधि होता है। इसलिए नियमित एलोवेरा का सेवन करना हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही आवश्यक होता है।

एलोवेरा के फायदे सूजन में

हमारे शरीर में सूजन होने का मुख्य कारण ऑक्सीडेटिव नुकसान की वजह होता है इसके पीछे हमारे शरीर में मौजूद फ्री रेडिकल्स भी जिम्मेवार होते हैं फ्री रेडिकल्स अक्सर हमारी बॉडी सेल्स को नुकसान पहुंचाते हैं। एलोवेरा में प्रचुर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं यह सूजन को कम करने में मददगार होता है। इसी कारण से एलोवेरा का ज्यूस नियमित पीने से शरीर की सूजन कम होती है।

एलोवेरा के फायदे कोलेस्ट्रॉल में

शरीर में जलने वाला एक्स्ट्रा कोलेस्ट्रॉल ही मोटापे की मुख्य वजह है। एलोवेरा के नियमित सेवन से कोलेस्ट्रॉल की परेशानी से राहत मिलती है। बहुत सी स्टडीज में पाया गया है कि एलोवेरा हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मददगार होता है। इसलिए नियमित एलोवेरा का ज्यूस पीने से कोलेस्ट्रॉल को आसानी से नियंत्रित किया जा सकता है। और पढ़ें ~ कोलेस्ट्रॉल क्या है और इसका घरेलू इलाज 

एलोवेरा का के फायदे कमर दर्द में

कमर दर्द की समस्या से परेशान लोगों को एलोवेरा का नियमित इस्तेमाल फायदेमंद हो सकता है। गेहूं के आटे में घी और एलोवेरा जेल डालकर (एलोवेरा का गुदा इतना हो जिससे आटा गूंथा जाए) इसकी रोटी बना लें और रोटी का चूर्ण बनाकर इसके लड्डू बना कर रख लें।

नियमित एक से दो लड्डू को का सेवन करने से कमर दर्द की समस्या में राहत मिलती है। इसके अलावा एलोवेरा की जेल को कमर में लगाने से यह दर्द निवारक दवा की तरह काम करता है।

एलोवेरा का सेवन पीलिया रोग में

पीलिया रोग का इलाज करने के लिए भी एलोवेरा का सेवन फायदेमंद होता है। इसके लिए नियमित एलोवेरा के रस को दिन में दो से तीन बार सेवन करने से पीलिया रोग में लाभ मिलता है।

एलोवेरा का सेवन शरीर में खून बढ़ाने में

शरीर में होने वाली हिमोग्लोबिन की कमी को दूर करने के लिए भी एलोवेरा एक कारगर औषधि होता है। इसके लिए सुबह खाली पेट एलोवेरा ज्यूस पीने से शरीर में रेड ब्लड सेल्स की वृद्धि  जल्दी जल्दी होने लगती है। इसलिए अगर खून की कमी है तो नियमित एलोवेरा ज्यूस का सेवन करने को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं। और पढ़ें ~ हीमोग्लोबिन कैसे बढ़ाएं

एलोवेरा के फायदे स्किन के लिए

इसके ज्यूस का नियमित सेवन करने से त्वचा चमकदार बनती है। एलोवेरा का नियमित सेवन करने से चेहरे पर निकलने वाले कील मुंहासे साफ हो जाते हैं। दरअसल चेहरे की चमक का पेट के स्वास्थ्य से गहरा सम्बन्ध होता है। अगर पेट ठीक रहता है तो त्वचा भी स्वस्थ रहती है।

दांतो के लिए एलोवेरा का सेवन

एलोवेरा के ज्यूस में एंटीमाइक्रोबॉयल प्रॉपर्टी पाई जाती है जो दाँतो को साफ और जर्मफ्री रखता है। एलोवेरा ज्यूस को माउथ फ्रेशनर के तौर पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है। एलोवेरा के ज्यूस को मुंह में भरने से ही छाले और बहने वाले खून को भी रोका जा सकता है। इन्हीं कारणों से एलोवेरा दांतो की समस्याओं के लिए उपयोगी और लाभकारी माना जाता है। और पढ़ें ~ दांत दर्द का घरेलू इलाज 

सिर दर्द में एलोवेरा का सेवन

आजकल सिर दर्द की समस्या आम हो गई है। अक्सर लोगों को नींद पूरी होने के बावजूद सुबह सिर दर्द महसूस होता है। काफी लोगों को यह बात मालूम नहीं होती कि कई बार हमारे शरीर के अंदर पानी की कमी के कारण भी सिर में दर्द होना शुरू हो जाता है।

इसलिए सिर में होने वाले दर्द की समस्या से छुटकारा पाने के लिए नियमित सुबह खाली पेट एलोवेरा ज्यूस का सेवन करना लाभकारी होता है। इसके अलावा एलोवेरा के गुदे की सिर में मालिश करना भी मददगार होता है।

भूख बढ़ाने के लिए एलोवेरा का सेवन 

कब्ज की समस्या होने के कारण जब सुबह पेट ठीक से साफ नहीं हो पाता है तो भूख भी नहीं लगती। ऐसे में शरीर को जरूरी पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं अगर सुबह उठते ही नियमित एलोवेरा के ज्यूस का सेवन किया जाए तो पेट ठीक से साफ हो जाता है और भूख भी बढ़ती है और शरीर में जरूरी आवश्यक पोषक तत्वों की पूर्ति होती है।

 बॉडी डिटॉक्स करने में एलोवेरा का सेवन

घृतकुमारी (एलोवेरा) का ज्यूस एक अच्छा डिटॉक्सीफिकेशन करने वाला पेय पदार्थ होता है। हमारे शरीर में कई प्रकार के विषैले तत्व होते हैं जो स्किन को खराब करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और बॉडी सिस्टम पर बुरा प्रभाव भी डालते हैं।

इसलिए एलोवेरा का ज्यूस नियमित पीने से पेट के अंदर व शरीर की हर प्रकार की गंदगी बाहर निकल जाती है। एलोवेरा शरीर को तरोताजा महसूस कराने में भी उपयोगी होता है। यह हमे ताजगी का एहसास भी करवाता है।

Aloe Vera ke fayde aur nuksan

 

एलोवेरा के स्वास्थ्य लाभ व उपयोग (Aloe Vera ke fayde aur nuksan)

आयुर्वेद के अनुसार ग्वारपाठा कडुवा, शीतल, रेचक, धातुपरिवर्तक, मज्जावर्धक, कामोदीपक, कृमिनाशक, और विषनाशक होता है। नेत्र रोग,  तिल्ली वृद्धि, यकृत रोग, वमन, ज्वर, खांसी,  चर्म रोग, पित्त, श्वास, कुष्ठ, पीलिया, पथरी और वर्ण में लाभदायक होता है।

त्वचा में नयापन लाने के लिए इसके उत्पादों का उपयोग पौराणिक काल से ही होता आ रहा है। इसके उत्पादों की विश्व बाजार में भी काफी मांग के चलते एलोवेरा के बारे में जानकारी और इसकी आवश्यकता महसूस की जा रही है।

एलोवेरा जिसे घृतकुमारी और ग्वारपाठा के नाम से भी जाना जाता है जो कि न सिर्फ दवाओं के लिए उपयोग किया जाता है बल्कि आजकल नियमित इस्तेमाल होने वाली चीजों में भी उपयोग किया जाता है जैसे शैंपू, कंडीशनर, ज्यूस, साबुन, टूथपेस्ट आदि।

एलोवेरा के नुकसान (side effects of aloe vera in hindi)

घृतकुमारी (एलोवेरा) के ज्यूस को अगर सावधानी और उचित जानकारी से प्रयोग ना किया जाए तो व्यक्ति को एलर्जी की समस्या हो सकती है। इससे त्वचा पर दाने, पित्त, खुजली, गले में जलन आदि लक्षण नजर आ सकते हैं।

  • एलोवेरा का ज्यादा सेवन करने से गैस की समस्या भी हो सकती है।
  • जिन लोगों का ब्लड प्रेशर लो रहता है उनको इसका सेवन करने से पहले चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।
  • एलोवेरा का ज्यादा मात्रा में या ज्यादा दिन तक सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि अधिक सेवन से पेट दर्द और दस्त की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।
  • सुबह खाली पेट डिब्बाबंद एलोवेरा ज्यूस का सेवन करने से डिहाइड्रेशन की समस्या भी हो सकती है।
  • 12 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

FAQ : घृतकुमारी (एलोवेरा) के बारे में पूछे जाने वाले सवाल जवाब 

Q 1. एलोवेरा कितने दिन तक खाना चाहिए ?

Ans  अगर आप ताजा एलोवेरा का ज्यूस निकाल कर सेवन करते हैं तो 7 दिन पियें और 7 दिन के अंतराल के बाद 7 दिन पियें। इसके अलावा बाजार में मिलने वाले डिब्बा बंद एलोवेरा का सेवन ज्यादा दिन भी किया जा सकता है क्योंकि उनको मिलावट करके तैयार किया गया होता है।

Q 2. एलोवेरा का उपयोग कैसे करें ?

Ans  इसका उपयोग ज्यूस और जेल के रूप में ही ज्यादा तर किया जाता है। इसके ज्यूस को 15 से 20 ग्राम की मात्रा में गुनगुने पानी के साथ सुबह के समय पिया जा सकता है या इसके साथ शहद और नींबू का रस भी मिला सकते हैं। और जैल को नियमित चेहरे व स्किन पर लगाकर 20 मिनिट बाद सादा पानी से धो लें। यह त्वचा को मुलायम और आद्र्रता को बनाए रखने में उपयोगी होता है।

Q 3. क्या एलोवेरा की तासीर गर्म होती है ?

Ans  एलोवेरा थोड़ी गर्म तासीर का होता है और इसमें पाया जाने वाला लेटेक्स कोलाइटिस, रक्त स्राव, पेटदर्द, अल्सर व आँतो की समस्या भी उतपन्न कर सकता है। इसलिए इसका सेवन उचित मात्रा में ही करना लाभदायक माना जाता है।

Q 4. एलोवेरा के खाने से क्या फायदे होते हैं ?

Ans  एलोवेरा त्वचा और बालों की खूबसूरती घाव को भरने और कैंसर की परेशानी से राहत दिलाने में उपयोगी माना जाता है एलोवेरा का जूस पीने से शरीर को कई स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं एलोवेरा में विटामिन ए, सी, ई,  विटामिन बी 12 और फोलिक एसिड प्रचुर मात्रा में पाया जाता है।

तमाम जानकारियों को सूचनात्मक उद्देश्य से लिखा गया है। किसी बीमारी से ग्रस्त व्यक्ति या किसी तरह की दवाओं का सेवन करने वालो को चिकित्सक से परामर्श कर लेने के बाद ही एलोवेरा का सेवन करना चाहिए।

इस आर्टिकल एलोवेरा के फायदे और नुकसान (Aloe Vera ke fayde aur nuksan) के बारे में आपके कोई सवाल या सुझाव हो तो Comment करें और पोस्ट को Share भी करें।

इन्हें भी पढ़ें-

Leave a Comment