Healthy heart tips | दिल को मजबूत करने के लिए क्या करना चाहिए

दिल को मजबूत कैसे रखें (Heart healthy tips in hindi) Heart healthy lifestyle in hindi

दिल को मजबूत करने के लिए क्या करना चाहिए – आज के समय व्यस्त जीवनशैली के कारण दिल के कमजोर होने की समस्या होने लगी है लेकिन अपनी नियमित आदतों में थोड़ा सा बदलाव लाकर हम अपने दिल को मजबूत और सेहतमंद बना सकते हैं। निरोगी हेल्थ के इस लेख में जानेंगे दिल को मजबूत करने के लिए क्या करना चाहिए, दिल को मजबूत करने के उपाय और तरीकें कौन कौन से है। जानते हैं दिल को मजबूत करने के लिए क्या करना चाहिए (Healthy heart tips in hindi)

दिल हमारे शरीर का महत्वपूर्ण अंग होता है और इसको स्वस्थ रखना बहुत आवश्यक होता है क्योंकि यदि किसी प्रकार की ह्रदय सम्बन्धी समस्या हो जाये तो जीवन खतरे में पड़ जाता है। हार्ट ही शरीर के अन्य अंगों तक रक्त की सप्लाई करता है।

दिल से संबंधित रोग बहुत से रोगों का समूह होता है ब्लड प्रेशर, मोटापा, हाई कोलेस्ट्रोल और अधिक तनाव के कारण शरीर में ब्लड की आपूर्ति करने वाली वाहिकाओं का क्षतिग्रस्त होना इसके सामान्य कारण होते हैं।

हार्ट को मजबूत कैसे रखें (Healthy heart tips in hindi)

सुबह की धूप लेना

शरीर में होने वाली विटामिन डी की कमी भी दिल की बीमारी का कारण बनती है। इससे कैंसर, डायबिटीज, मोटापे आदि का खतरा भी बढ़ता है। इसलिए रोज 15 से 20 मिनट सुबह की धूप में बिताने से विटामिन डी की कमी पूरी होती है और तनाव भी कम होता है।

विटामिन डी वाला भोजन जैसे पनीर, संतरे का रस, सोया दूध आदि का नियमित सेवन करना दिल के स्वास्थ्य के लिए जरूरी होता है। यह पढ़ें – विटामिन डी की कमी क्या है

पानी का पर्याप्त मात्रा में सेवन करना

कम पानी पीने वालों की तुलना में नियमित 5 से 7 गिलास पानी पीने वाले लोगों में दिल का दौरा पड़ने की आशंका बहुत कम हो जाती है। ज्यादा पानी पीने से शरीर हाइड्रेट बना रहता है व इससे ब्लड सर्कुलेशन भी अच्छा रखता है।

जबकि डिहाइड्रेशन से ब्लड सर्कुलेशन गिर जाता है। व ब्लड क्लॉट का जोखिम बढ़ जाता है जो हृदय के लिए बहुत ही हानिकारक होता है। इसलिए हेल्थी हार्ट के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए।

नियमित पैदल चलना

रोजाना हर घंटे 5 मिनट चलना दिल के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायक होता है। क्योंकि आजकल तो चालीस की उम्र के आसपास ही हृदय की मांसपेशियां सख्त होने लगती है। इससे पूरे शरीर में रक्त को पंप करना मुश्किल हो जाता है इसे डायस्टोलिक डिस्फंक्शन कहते हैं।

ऐसा तनाव में भी होता है और लगातार बैठे रहने के कारण भी। क्योंकि लगातार 1 घंटे बैठे रहने में 50 कैलोरी, खड़े रहने में 88 कैलोरी और पैदल चलने पर 200 से ज्यादा कैलोरी बर्न होती है। इसलिए पैदल चलने को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाकर ह्रदय को स्वस्थ और मजबूत रख सकते है।

रात का उपवास करना

शरीर के मेटाबॉलिज्म फंक्शन्स को रिपेयर करने के लिए उसे रोज ब्रेक की जरूरत होती है। ऐसे में उसे रोज रात में कम से कम 11 घंटे आराम देना जरूरी होता है। देर रात में स्नैक्स से बचना आवश्यक है क्योंकि इससे ब्लड फैट, शुगर बढ़ता है जो सीधे हार्ट की हेल्थ को प्रभावित करता है।

कोशिश करनी चाहिए कि शाम 7 बजे के बाद कुछ ना खाया जाए और पर्याप्त मात्रा में 7 से 8 घंटे नींद भी दिल को स्वस्थ व मजबूत रखने के लिए जरूरी होती है।

भोजन समय पर करना

कई बार लोग काम की व्यस्तता या तनाव आदि के कारण खाने-पीने का पैटर्न बदल लेते हैं। नियमित समय की जगह देर से खाना और देर से सोना पड़ता है। इससे हार्ट सहित शरीर के अन्य अंगों की सकेंडियम रिदम बिगड़ जाती है।

अगर आप नियमित ज्यादा कैलोरी लेते हैं या कम सोते हैं तो ब्लड प्रेशर 10% तक बढ़ सकता है यह दिल के लिए बहुत ही हानिकारक संकेत होता है। इसलिए अपना नियमित भोजन समय पर ही करें यह स्वस्थ और निरोगी जीवन के लिए आवश्यक होता है।

योग और व्यायाम करना

शरीर व ह्रदय को निरोगी और स्वस्थ रखने के लिए नियमित आधा से एक घंटा योग और व्यायाम अवश्य करना । रोजाना एरोबिक एक्सरसाइज करें जैसे ब्रिस्क वॉकिंग, साइकिल राइडिंग, स्विमिंग जंपिंग आदि।

इनसे  हृदय मजबूत होगा, वजन नियंत्रित रहेगा, कोलेस्ट्रोल कम होगा व शरीर स्वस्थ और निरोगी रहेगा। अगर एक व्यस्क व्यक्ति हफ्ते में दो से तीन घंटे तक योग व व्यायाम करता है तो उसमें हार्ट अटैक का जोखिम 60% तक कम हो सकता है।

यूरिनेट समय पर त्यागना

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए जब भी पेशाब लगे तो उसे रोकना नहीं चाहिए तुरंत ही करना चाहिए। क्योंकि जब ब्लैडर पूरी तरह से भर जाता है तब हार्ट बीट्स बढ़ जाती है। नसों में खिंचाव होता है व हार्ट अटैक का खतरा भी बढ़ जाता है इसलिए बार-बार व समय पर यूरिनेट बहुत ही जरूरी होता है।

पौस्टिक आहार का सेवन

चुकंदर में नाइट्रेट्स होता है जो रक्त में नाइट्रिक ऑक्साइड में बदल जाता है। यह रक्त वाहिकाओं को भी चौड़ा करता है। इसलिए नियमित डेढ़ सौ ग्राम चुकंदर का सेवन अवश्य करना चाहिए। इसके अलावा अलसी में फाइबर, omega-3s और लिग्नास नामक एंटीऑक्सीडेंट प्लांट कंपाउंड पाया जाता है।

अलसी ब्लड शुगर और इंसुलिन घटाती है व इन्सुलिन सेंसटिविटी बढ़ाती है। इसलिए नियमित एक से दो चम्मच अलसी का सेवन जरूर करना चाहिए।

अखरोट और बादाम का सेवन

लो फैट युक्त खाद्य पदार्थों से डबल हेल्दी सेचुरेटेड फेट्स का स्रोत ड्राई फ्रूट्स होते हैं। इनमें विटामिन ई, मैग्नीशियम, कॉपर, जिंक और फाइटोकेमिकल्स पाए जाते हैं जो हार्ट को हेल्दी रखने में बहुत ही सहायक होते हैं। यह पढ़ें – ड्राईफ्रूट्स के फायदे

FAQ

Q 1 क्या खाने से दिल मजबूत होता है?

Ans कमजोर दिल को मजबूत करने के लिए अलसी के बीज यानी कि फ्लैक्सीड का सेवन अपने नियमित आहार में अवश्य करें क्योंकि इसमें ओमेगा 3 फैटी एसिड होता है जो गुड फैट होता है। इससे दिल मजबूत होता है।

Q 2 हार्ट के मरीज को कौन सा फल खाना चाहिए?

Ans  हृदय रोगी को भरपूर मात्रा में फाइबर वाले फल जैसे सेव, खट्टे फल, मोटे अनाज का प्रचुर मात्रा में सेवन करना चाहिए। एवोकाडो भी बैड कोलेस्ट्रॉल कम करता है और गुड कोलेस्ट्रोल बढ़ाता है। इसके अलावा बैरीज और अंगूर भी कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए अवश्य सेवन करने चाहिए जैसे स्ट्रॉबेरी, ब्लूबेरी, रसबेरी, अंगूर आदि।

Q 3 हार्ट के मरीज को कौन सा तेल खाना चाहिए?

Ans दिल को हैल्दी रखने के लिए जैतून का तेल सबसे अच्छा माना गया है। इसके वर्जिन और एक्स्ट्रा वर्जिन प्रकार बेहद लाभकारी होते हैं। इसमें प्रचुर मात्रा में मोनो अनसैचुरेटेड फैटी एसिड और पॉली अनसैचुरेटेड फैटी एसिड होते हैं। जिनके कारण ह्रदय स्वस्थ रहता है।

यह आर्टिकल दिल को मजबूत करने के लिए क्या करना चाहिए (Healthy heart tips in hindi) आपको कैसा लगा Comment करें और शेयर भी करें ताकि किसी जरूरतमंद की मदद हो सके।

इन्हें भी पढ़ें~

1 thought on “Healthy heart tips | दिल को मजबूत करने के लिए क्या करना चाहिए”

Leave a Comment