अपेंडिक्स का रामबाण इलाज | लक्षण | कारण | Appendix treatment|in hindi

अपेंडिसाइटिस क्या है, लक्षण, कारण और घरेलू इलाज (Appendicitis treatment at home in hindi)

अपेंडिक्स appendix in hindi हमारी आंत का एक छोटा सा हिस्सा होता है। अपेंडिक्स के कारण दर्द या सूजन होने पर बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। आयुर्वेद में अपेंडिक्स का रामबाण इलाज (Treatment of appendix in hindi) बताया गया है। लेकिन शुरुआती लक्षण होने पर इलाज न मिलने पर यह सूजन और सक्रमण के कारण फट भी सकती है। इसलिए आइये जानते हैं अपेंडिक्स का रामबाण इलाज | लक्षण | कारण | Appendix treatment|in hindi

Contents

अपेंडिक्स क्या है (What is Appendix in hindi)

अपेंडिसाइटिस (Appendix) बड़ी आंत से जुड़ी एक प्रकार की थैली होती है। और पेट के निचले हिस्से के दाहिने भाग में होती है। इसमें सूजन या सक्रमण होने पर अपेंडिसाइटिस होता है। यह बीमारी तब होती है। जब अपेंडिक्स में किसी प्रकार की रुकावट होती है। रुकावट के कारण इसके अंदर बैक्टीरिया पनपने लगते हैं। जो गंभीर दर्द का कारण होता है।

अगर अपेंडिसाइटिस (appendix in hindi) हो जाए तो इसका समय पर इलाज करवाना जरूरी होता है। समय पर इलाज न मिलने पर यह सूजन और संक्रमण के कारण फट भी सकती है।

अपेंडिक्स के प्रकार (Type of appendix in hindi)

यह मुख्य रूप से दो प्रकार की होती है

  1. एक्यूट अपेंडिसाइटिस

यह एक तरह का गंभीर और अचानक से शुरू होने वाली बीमारी है। यह एक दो दिन में ही बढ जाती है। समय पर इसका इलाज न किया जाए तो अपेंडिक्स फट भी सकता है। आमतौर क्रोनिक की तुलना में एक्यूट अपेंडिसाइटिस ज्यादा होती है।

  1. क्रोनिक अपेंडिसाइटिस

यह एक्यूट की तुलना में काफी कम लोगो मे होती है। इसके एक बार ठीक होने के बाद दुबारा होने की आशंका कम होती है। कई बार तो इसकी पहचान करना भी मुश्किल होता है। इस प्रकार का अपेंडिसाइटिस अधिक नुकसानदेह हो सकता है।

अपेंडिक्स के लक्षण क्या है (Symptoms of appendix in hindi)

इसका मुख्य लक्षण पेट में दर्द के साथ उल्टी होना होता है। अचानक गंभीर दर्द उठता है। और छीकनें, खाँसने और सांस लेने पर कष्टदायक हो सकता है। इसके अलावा इस (appendix in hindi) के कुछ और लक्षण भी है जैसे

  • घबराहट होना
  • भूख न लगना
  • कब्ज या दस्त की समस्या होना
  • पेट में सूजन की समस्या होना
  • गैस संबंधी समस्या होना

इसे पढ़ें – गैस व एसिडिटी से राहत पाने घरेलू नुस्खे

अपेंडिक्स के कारण क्या है (Causes of appendix in hindi)

  • लगातार कब्ज की समस्या रहने के कारण।
  • आंतों के ठीक से साफ न होने के कारण।
  • भोजन में फाइबर की मात्रा कम होने के कारण।
  • फास्टफूड, जंकफूड का ज्यादा सेवन के कारण।
  • खटाई, मिर्च मसाले, तेल में बने खाद्य पदार्थों का ज्यादा सेवन करने के कारण।

अपेंडिसाइटिस में सावधानियां  (Appendix safety in hindi)

अपेंडिसाइटिस एक गंभीर बीमारी है। इस से निदान पाने का सबसे बेहतर विकल्प डॉक्टर से इलाज करवाना होता है। घरेलू नुस्खों को आजमा कर इसको पूरी तरह से ठीक करना संभव नहीं है। लेकिन प्राथमिक उपचार के लिए इन नुस्खों से राहत पा सकते हैं। इसलिए अपेंडिसाइटिस की समस्या (Problem for appendix in hindi) होने पर सिर्फ घरेलू इलाज करना सही निर्णय नहीं हो सकता। लेकिन यह घरेलू नुस्खे कुछ राहत दिला सकते हैं।

अपेंडिक्स की समस्या से राहत पाने के घरेलू उपाय (Home remedies for appendix in hindi)

अदरक का सेवन 

यह दर्द और सूजन को कम करने में काफी मददगार होती है। अदरक सक्रमण को भी रोकेती है। अपेंडिसाइटिस की समस्या होने पर एक चम्मच शहद के साथ आधा चम्मच अदरक के रस का सेवन करना कुछ राहत दिला सकता है। इसके अलावा आप अदरक वाली चाय का भी सेवन कर सकते हैं।

मेथीदाना का सेवन 

मेथी दाना दर्द और सूजन से राहत दिलाने के साथ-साथ गैस की समस्या से भी छुटकारा दिलाता है। अपेंडिसाइटिस की समस्या होने पर एक गिलास पानी में दो चम्मच मेथी दाना डाल कर उबालें। जब पानी आधा बच जाए तो छानकर इसका सेवन करने से Appendix की समस्या के कारण होने वाले दर्द और उल्टी की समस्या में आराम मिलता है।

पुदीना का सेवन 

पुदीना पेट की परेशानियों को दूर करने का एक अच्छा उपाय है। पेट में गैस, उल्टी, चक्कर, दर्द आदि में पुदीना बहुत ही कारगर होता है। पुदीने की चाय का सेवन नियमित करने से अपेंडिसाइटिस के दर्द में आराम मिलता है। इसके अलावा आप अपने भोजन में पुदीना की चटनी का सेवन करेंगे तो पेट की समस्त समस्याओं में राहत मिलती है।

नींबू पानी का सेवन 

नींबू पानी हमारे पेट की समस्याओं व पाचन क्रिया के लिए जरूरी होता है। यह पेट की गैस व दर्द से राहत दिलाने में उपयोगी है। एक चम्मच नींबू का रस और एक चम्मच शहद दोनों को मिलाकर इसका सेवन करने से अपेंडिसाइटिस में आपको राहत मिलेगी इसका सेवन दिन में दो से तीन बार कर सकते हैं।

इसके अलावा नींबू की शिकंजी बनाकर इसका नियमित सेवन करना भी लाभदायक होता है। यह पढ़ें ~ यूरिक एसिड का घरेलू इलाज

सूरजमुखी और कददू के बीजों का सेवन 

बीज फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट के आधार होते हैं। जो सूजन से बचाव करते हैं। इसके साथ ही इन बीजों को अपनी डाइट में शामिल करने से अपेंडिक्स के साथ-साथ और भी खतरनाक बीमारियां दूर रहती है। इसलिए फाइबर से भरपूर इन चीजों का सेवन करके आप अपेंडिसाइटिस जैसी समस्या से राहत पा सकते हैं। यह पढ़ें ~ बीजो के फायदे

छाछ का सेवन 

अपेंडिसाइटिस का उपचार करने में छाछ भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इसके लिए एक गिलास छाछ में सेंधा नमक और भुना हुआ जीरा मिलाकर दिन में दो से तीन बार इसका सेवन करने से Appendix के दर्द में आराम मिलता है। और कब्ज की समस्या नहीं होती है।

फाइबर युक्त आहार में कमी

भोजन में फाइबर की कमी से पाचन से जुड़े बहुत से विकार हो जाते हैं। जो कि अपेंडिसाइटिस के जोखिम को बढ़ावा देते हैं। फाइबर की कमी से खासतौर से शरीर में कब्ज की समस्या होने लगती है। जिससे कुछ मल पदार्थ अपेंडिक्स में चला जाता है। जो अपेंडिसाइटिस का कारण बनता है। यह पढ़ें ~ कब्ज दूर करने के उपाय 

अपेंडिसाइटिस की जटिलताएं (Treatment for appendix in hindi)

जब अपेंडिसाइटिस फट जाता है। तो इसमें से निकलने वाले बैक्टीरिया शरीर के अन्य हिस्सों में फैल जाते हैं। और इन्फेक्शन फैला देते हैं। जब यह इन्फेक्शन पेरिटोनियम में फैलता है। तब गंभीर स्थिति पैदा करता है। पेरीटोनियम टिशू की एक पतली झिल्ली होती है। जो पेट के अंदरूनी हिस्सों को ढक कर रखती है।

अगर पेरीटोनियम का समय पर इलाज न किया जाए तो यह लंबे समय तक समस्या पैदा करती है। पेरीटोनाइटिस के इलाज में एंटीबायोटिक का उपयोग और सर्जरी के जरिए अपेंडिसाइटिस (Appendix  in hindi) निकालना शामिल होता है।

अपेंडिसाइटिस में पूछे जाने वाले सवाल जवाब FAQ

Q1. अपेंडिसाइटिस क्यों होता है ?

Ans  हमारे शरीर की आंतों के बैक्टीरिया इस अपेंडिक्स में चले जाते हैं और संक्रमण पैदा करते हैं जिसके कारण अपेंडिसाइटिस हो जाता है।

Q2. अपेंडिक्स क्या होता है और यह कब होता है ?

Ans  यह पेट के दाएं तरफ और निचले हिस्से में होता है। यह एक उंगली के आकार का पाउच होता है जो कोलन से बाहर निकलता है। अपेंडिसाइटिस तब होता है जब इसमें संक्रमण के चलते सूजन आ जाती है और मवाद भर जाता है।

Q3. क्या अपेंडिसाइटिस की समस्या में एनिमा किया जा सकता है ?

Ans अगर आपको कब्ज की समस्या है और आपको लगता है कि अपेंडिसाइटिस हो सकता है तो एनिमा का उपयोग करने से बचना चाहिए क्योंकि इसके कारण कई बार अपेंडिक्स फट जाता है।

Q4. अपेंडिक्स का हमारे शरीर में मुख्य कार्य क्या होता है ?

Ans  यह हमारे खानपान के साथ हुई शारीरिक संरचना में बदलाव से संबंधित है। प्राचीन काल के समय में मानव के कच्ची चीजें खाने की आदतों के समय यह सैलूलोज को पचाने में उपयोगी माना जाता था लेकिन आज के समय में पक्की हुई चीजें ज्यादा खाने से शरीर में इसकी उतनी ज्यादा उपयोगिता नहीं रह गई है। इसलिए डॉक्टर इस को (Appendix  in hindi) ऑपरेशन के द्वारा निकाल देते हैं।

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में हमने जाना अपेंडिक्स क्या है अपेंडिसिटिक्स कितने प्रकार का होता है इसके लक्षण कारण और अपेंडिक्स का घरेलू इलाज तथा क्या खाने से इस रोग से बचा जा सकता है। इस लेख बारे में आपके कोई भी सुझाव या सवाल हो तो आप हमे पूछ सकते है। यह लेख अपेंडिक्स का रामबाण इलाज Treatment of Appendix  in hindi आपको कैसा लगा Comment करके बताये और शेयर भी करें।

इस आर्टिकल में लिखी गई तमाम जानकारियों को सूचनात्मक उद्देश्य से लिखा गया है। अतः किसी भी सुझाव को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श अवश्य कर लेवें।

-: लेख को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद :-

इन्हें भी पढ़ें-

1 thought on “अपेंडिक्स का रामबाण इलाज | लक्षण | कारण | Appendix treatment|in hindi”

Leave a Comment